केटेगरी : भड़का भारतीय

ट्विटर पर भड़के भारतीय

नई सोशल मीडिया गाइडलाइन आने के बाद से ट्विटर और सरकार के बीच विवाद चल रहा है। ऐसे में उपराष्ट्रपति का अकाउंट अनवेरिफाइड किए जाने से विवाद और बढ़ गया है। उपराष्ट्रपति के अकाउंट से ब्लू टिक हटाकर ट्वीटर ने नया  विवाद...

और पढ़ें

फ़िज़ूल खर्च को पहचानों -कंपनियों के दावों को पहचानों

"फ़िज़ूल खर्च को पहचानों, कंपनीयों के दावों को पहचानों"क्यूँ आज सबकी जेब पर बोझ पड़ रहा है ? क्यूँ महंगाई और सरकार को कोसते है सब। कभी ये क्यूँ नहीं सोचते की बिनजरूरी चीज़ों पर व्यर्थ खर्च कर रहे है हम। आज से...

और पढ़ें

पूर्व CM त्रिवेंद्र सिंह रावत का अनोखा ज्ञान कहा - कोरोना...

कोरोना वायरस महामारी के कारण भारत आज कल बुरी तरह से त्रस्त है. जहां मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है, जिससे पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था को बिगाड़ कर रख दिया है. वहीं कोरोना से मरने वालों की संख्या इतनी है कि श्मशान...

और पढ़ें

पागलों की रेस !

गांव का आदमी शांति से दातुन कर रहा था ,तभी मल्टी नेशनल कम्पनी के लोग आये और ताऊ को नीम का दातुन, कोयला और नमक इस्तेमाल करने से मना किया | ताऊ को उन्होंने इन सबके नुक्सान गिनाये और जाते समय टूथपेस्ट ताऊ को दे गए , कुछ सालों मे सारा...

और पढ़ें

कोरोना से केवल इंसान नहीं इंसानियत भी मर रही है

एक तरफ वो लोग हैं, जो दिन रात एक कर कोविड के जानलेवा हमले से मरीजों को अपनी जान जोखिम में डालकर बचाने में जुटे हैं तो दूसरी तरफ वो हैवान हैं जो इस महाआपदा में भी अवसर खोज कर इंसानियत के मुंह पर कालिख पोत रहे हैं।...

और पढ़ें

लोकतंत्र में लोक की महत्ता ?

वैश्विक महामारी के बीच जहाँ विश्व की कई सरकारे अपने नागरिकों को चिकत्सीय सुविधाएं और गुजर बसर के लिए मुआवजा देने की जुगत में हैं वही पर भारत जैसे महान देश की कुछ महान प्रदेश की सरकारें , नागरिकों को इस बुरे समय की आधारभूत सहूलियत...

और पढ़ें

हवाई चप्पल, सूती साडी और हौंसले के उफान

हवाई चप्पल, सूती साडी और हौंसले के उफान लिए यदि ममता बनर्जी ने बंगाल में भाजपा को चारो खाने चित्त किया है तो ये सबक न केवल भाजपा के लिए है बल्कि उसके साथ उसके विरोधियों के लिय भी है जो भाजपा को अपराजित मान बैठे थे | साम, दाम दंड...

और पढ़ें

बॉलीवुड की बड़ी बुआ ?

हर घर , हर शादी , हर कार्यक्रम में एक अनिवार्य उपस्थिति होती हैं | वैसे तो कई बार उपस्थिति अनिवार्य होती भी नहीं हैं लेकिन ये एक करैक्टर आपको गाहे बगाहे हर जगह मिल ही जायेगा | वैसे तो इस प्रकार के जीव आपको हर रिश्ते में मिल सकते...

और पढ़ें

अपने ही हो रहे है पराये

वक्त ने आज सबको एक ऐसे दोराहे पर खड़ा कर दिया है जहाँ अपनों की पहचान हो जाए। वैसे इंसान करे भी तो क्या ? ये ख़तरनाक महामारी का स्वरूप ही ऐसा है, जन संपर्क से फैल रही जानलेवा बीमारी है। हर कोई डरा हुआ है, और डरना भी चाहिए पर नियमों...

और पढ़ें

समझ लो प्रकृति बदला ले रही है

हम इंसानों ने आज तक प्रकृति को प्रदूषित करने का एक मौका नहीं गंवाया मुफ़्त में मिल रहे हवा पानी ऑक्सीजन हरियाली की लेश मात्र हमें कद्र नहीं।नदी , तालाब , समुद्र , हवा , पानी , जंगल , आकाश , मिट्टी , जीव , जंतु,...

और पढ़ें