केटेगरी : संस्कृति और शिक्षा

यौवनावस्था में बच्चों के लिए सही एजुकेशन

दोस्तों हमारे समाज में जो बाल अपराध बढ़ रहे हैं और छोटी छोटी उम्र में आजकल बच्चे ऐसे ऐसा काम कर जाते हैं ,जो अपराधों की संख्या में आते हैं। यह उनका अल्प ज्ञान और माता-पिताओं के द्वारा बच्चों को सही गलत समय रहते नहीं बताना भी जिम्मेदार...

और पढ़ें

साइबर बुलिंग से बचाएं अपना संसार

“ए लूजर..लूजर”“सोनू! अभी आपने फ्रेंड को कुछ बैड वर्ड कहा.. चलो सॉरी बोलो” रोशनी ने अपने 12 वर्षीय बेटे से कहा जो की वीडियो गेम खेलने में मस्त था अपने दोस्तों के साथ। “मॉम! हम फ्रेंड है.....

और पढ़ें

होली पर रखें इन १० बातों का खास ख्याल

दोस्तों होली का त्योहार आ गया है और मन में ले आया है वही उत्साह और उमंग। यही तो एक त्योहार है जो है उम्र के लोगो को प्रेम और उल्लास के रस में भिगो देता है। मुझे उम्मीद है आप सबने अब तक तैयारी शुरू कर दी होगी। पिचकारी तो पापा बच्चों...

और पढ़ें

हम एक हैं

” मुनिया घर की सफाई अच्छे से कर दे ।देखना एक भी कोना छूटने न पाए ।”“बाहर भी साफ कर दूँ ना भाभी ।”“अरे बाहर कौन साफ करता है ?कौन सा अपना है। घर साफ कर दे तू ,वही बहुत है और कूड़ा वहीं कोने...

और पढ़ें

होली में मिला नया जीवन

अरे!रूक्मणी ये क्या किया तूने?तुझे तो पता था न कि हमारे यहाँ विधवा होली का रंग नहीं लगाती।अब क्या मुहँ दिखाएेंगे लोगों को हम?” बूढ़ी दादी इस बात को बार-बार दोहराए जा रही थीं। दरअसल रूक्मणी बाल विधवा थी ।जब उसे ठीक...

और पढ़ें

मम्मा गुलाबी रंग तो लड़कियों का होता है

राहुल जब से स्कूल से लौटा बहुत उदास था जबकि कुछ  दिन पहले वह बहुत उत्साहित था अपने थियेटर फेस्टिवल को लेकर ।लेकिन आज लगभग बैग पटकते हुए बोला,” यह क्या मम्मा, पिंक कलर तो गर्ल्स का होता है। आपको पता है थियेटर फेस्टिवल...

और पढ़ें

सादी होली

सभी खुश थे ।फागुन की मस्ती में झूम रहे थे ।पर खुशी खुश नहीं थी। उदास थी। उसके चेहरे से उसकी उदासी साफ साफ झलक रही थी । कल होली थी पर, छुट्टी नहीं मिलने की वजह से वह घर नहीं जा पाई थी ।और छुट्टी बाद में मिली भी तो न ट्रेन में टिकट...

और पढ़ें

तुम्ही हो चंचल नादान, तुम्ही भवानी हो!!

चलो चलो जल्दी करो सूमी भी आ गयी है” रेवा ने चहकते हुए होली के दिन अपने घर आई अपनी सहेलियों को कहा। सीमा, प्रियंका, रेवा और सूमी चारों बारहवीं कक्षा में एकसाथ पढ़ती थी। चारो के घर आस पास ही थे। एक दूसरे के घर बेहिचक...

और पढ़ें