केटेगरी : ज्ञानी वाणी

सफ़र में मिलने वाले लोग

कुछ जाने पहचाने लग रहे हैंवो सफ़र में मिलने वाले लोगअनजानी सूरतों में छुपे सेदिल को भाने जाने...

और पढ़ें

हिंदी के 11 ऐसे शब्द जिनके मतलब आपको नहीं पता होंगे

हम में से बहुत से लोग नहीं जानते कि हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा नहीं है, लेकिन अंग्रेजी के साथ एक आधिकारिक भाषा का दर्जा साझा करती है.कुछ दिन पहले 14 सितंबर को, जब हम भारत में 'हिंदी...

और पढ़ें

अमृता प्रीतम जी के यह 25 विचार आपके चेहरे पर लाएंगे मुस्कान

अमृता प्रीतम (August 13, 1919- October 31, 2005) ने अपने मन के विचारों को हमेशा बेहद ही नायाब तरीके से पन्नों पर उतारा। विषय चाहे जो भी रहा हो: प्रेम, विरह, त्याग, देश का विभाजन या फिर कुछ और, उन्होंने...

और पढ़ें

बिंदास मसाबा गुप्ता की पर्सनल डायरी से 7 मोटिवेशनल कोट्स

बॉलीवुड फिल्म अभिनेत्री नीना गुप्ता और उनकी बेटी मसाबा की लेटेस्ट वेब सीरीज़ मसाबा मसाबा आज कल बहुत चर्चा में है। एक फैशन डिज़ाइनर की लाइफ के स्ट्रगल से लेकर एक लड़की की ज़िन्दगी के अनेकों पहलुओं पर...

और पढ़ें

ज़िंदगी अगर किताब होती

जिंदगी अगर किताब होतीहोती ग़र ज़िंदगी एक किताब सुनहरे उसमें ख्वाब लिखता, करके दूर गमों को खुशियों के मैं उसमें रंग भरता, ना लिखता जुदाई कभी नसीब में किसी की, मिलन उसमें बेहिसाब लिखता।होती ग़र ज़िंदगी...

और पढ़ें

पिघलता वक्त

वक्त - वक्त की बात है , ना जाने कब क्या मोड़ ले ले ये वक्त , रेत तो ठहर जाती है पर भर के लिए हाथों में वक्त निकल जाता है पानी की तरह ,जैसे पानी नहीं ठहर सकता हाथों में , वक्त भी कहां ठहरा कभी किसी के लिए ।क़िस्मत...

और पढ़ें

गिन नहीं गर्व बनों

"गीध नहीं गर्व बनों"क्यूँकि सुनों उस हादसे की पीड़ा, बेबसी की दर्द भरी कहानी एक पिड़ीता की ज़ुबानी,उफ्फ़...

और पढ़ें

जिंदगी

छोटी सी जिंदगी में कर डालो कई अच्छे काम मंजिल पाने के लिए जहां समस्या वहां समाधान भी है जिंदगी रास्ते हैं टेढ़े मेढ़े पर बढ़ते चलो आगे बढ़ते चलो इसी...

और पढ़ें

ज़िंदगी और कुछ भी नहीं

"ज़िंदगी और कुछ भी नहीं""ज़िंदगी के कुछ किरदार ज़िंदगी को बहुत प्यारे होते है गुलाब से, कुछ अनमने मोगरे, तो कुछ नज़र अंदाज़गी के शिकार गेंदा फूल से होते है"ज़िंदगी के रंगमंच पर अलग-अलग इंसान तीन प्रकार की ज़िंदगी जीते...

और पढ़ें

कहीं न कहीं कुछ

"कहीं ना कहीं कुछ"खिड़की आत्मा की खोलते ही दिखेगी हरसू हर नज़ारे में जीवंत सी परछाईयां, महसूस करो तो हर चीज़ों के भीतर कोई गहन अर्थ छिपा होता है।बादलों के झुरमुट में कुछ बूँदें छुपी होती है तड़ीत के प्रहार मे रोशनी...

और पढ़ें