केटेगरी : ज्ञानी वाणी

रात का मंज़र

\"रात का मंज़र\"कहीं जिस्म बेचा जाता है कहीं इमान खरीदा जाता है, काली अंधेरी रात की आड़ में न जानें क्या-क्या बिकता रहता है...चैनों करार को ड़सती रात अपने आँचल में न जाने कितने राज़ छिपाते हंसती है, न कुछ कहती...

और पढ़ें

नूर की बूँद है सदियों से बहा करती है: भावना ठाकेर जी का...

"नूर की बूँद है सदियों से बहा करती है""प्रेम वो खजाना है जिसे मिल जाए उसकी ज़िस्त जन्नत से कम नहीं होती, प्रेम की सही पहचान हो जाए तो प्रेम जैसी नायाब दुनिया में और कोई चीज़ नहीं होती"प्यार कोई बोल नहीं, प्यार आवाज़...

और पढ़ें

किशोर अवस्था कहीं बन जाए ना हौवा! Blog post by Prem Bajaj

किशोर अवस्था -जीवन का सबसे नाजुक पडा़व, कभी बचपने से समझदारी की तरफ बढ़ती एक नादान बच्ची तो कभी शैतानियों से...

और पढ़ें

भारतीय नव वर्ष पर जश्न मनाओ

आज की पीढ़ी को या तो अपनी संस्कृति और परंपरा का ज्ञान नहीं, या आधुनिकता ने ऐसा लपेटा है की भारतीय प्रणाली और...

और पढ़ें

कैसा जीवन या कितना जीवन? कौनसा सवाल है सही!

जीवन कैसा होना चाहिए या कितना जीवन अर्थात ज़िंदगी होनी चाहिए।बहुत ही अहम सवाल है। कुछ लोग समझते हैं कि ज़िन्दगी अगर लम्बी जीए है तो बहुत अच्छा है, कुछ सोचते हैं कि बेशक जीवन छोटा हो मगर अच्छा हो, अर्थात...

और पढ़ें

हिन्दी वर्णमाला

हिन्दी वर्णमालाक -से कसूर मेरा क्या था,ख- से खोखले वादे तुने किएग -से गैरों संग चल दिए छोड़करघ -से घायल था मैं तेरे प्यार मेंड़ -खाली देती है रकीबो के हाथ पे तालीच - से चंचलता तेरी मुझे भायी...

और पढ़ें

झूठी रस्में! Blog post by Prem Bajaj #वेडिंगसीज़न

शादी दो लोगों का ही नहीं दो परिवारों का मिलन होता है। इसलिए कभी-कभी दोनों परिवारों की रस्में, रीति-रिवाज अलग...

और पढ़ें

न उम्र की सीमा हो

"इश्क आईने में उम्र नहीं देखता माहताब की आँखों में प्यार देखता है, जब होता है इश्क बेशुमार तो कुछ और नहीं दिखता...

और पढ़ें

शादी के मायने: प्यारी दुल्हनिया के नाम पाती

प्यारी दुल्हनिया,शादी मुबारक, पर एई बिटिया जानती हो ये बंधन बहुत नाजुक होता है? चुटकी सिंदूर और मंगलसूत्र महज़ शृंगार के साधन नहीं, दो आत्माओं को एक सूत्र में बांधने वाली वो मजबूत डोर है जिसे सात जन्मों का बंधन...

और पढ़ें