केटेगरी : पिंक क्रोनिकल्स

सुकून मिलता है

सुकून मिलता है तेरे शाने पे रख कर सर सोने में सुकून मिलता है,छोड़ कर ये जहां बस तेरा होने में सुकून मिलता है,तेरी आंखों के अश्क पीकर सुकून मिलता है,देकर खुशियां तुझे अपनी, तेरे ग़म लेने में सुकून...

और पढ़ें

रात की नीरवता

रात की नीरवता मेंसोच का विस्तृत आकाशह्रदय के तार छेड़ता,तो कभी टूटता आत्मविश्वास,कभी बाधित होता मन का सहज सरल विकास।रात की नीरवता में,सन्नाटे को चीरता ये मौनउद्वेलित होता ये शांत मन,पल...

और पढ़ें

पुकार लो

पुकार लोना रहो यूं मौन तुम एक बार तो मेरा नाम पुकार लो,लगा कर मेरी यादों को गले से आओ थोड़ा इन्हें संवार लो।ग़र है हाल तेरा भी मेरे जैसा, तो ना यूं यादों की मुंडेर पर डेरा डालो, तुम आ जाओ पास मेरे या...

और पढ़ें

तेरे हैं तेरे रहेंगे

तेरे हैं, तेरे रहेंगेतुझसे करके मोहब्बत हमने भी जहां पाया है, ना होने देंगे बदनाम मोहब्बत, तेरा प्यार ही तो मेरा सरमाया है।तुने बिठा करके मन-मन्दिर में मेरी पूजा की है, तो मैंने भी तुम्हारी इबादत की...

और पढ़ें

मुझ में रम जाओ

मुझ में रम जाओजान-जान कह के क्यों इस तरह जान मेरी लेते हो,इतना तो बताओ क्यों इस कदर तड़पाया करते हो थम जाती धड़कन जब इस कदर प्यार से बुलाते हो।छू जाती है जब हवाएं तेरी ओर से आती हुई मुझको, उठती...

और पढ़ें

किनारों का नसीब

किनारों का नसीबनहीं होता नसीब में मिलन किनारों के,मगर धाराओं को मिलाते हैं किनारे,दूर रह कर भी इस तरह से पास आते हैं किनारे,माना हम दूर है, मिलने को मजबूर हैं,ये जहां की रवायतें भी कितनी अजीब हैं,मिलने...

और पढ़ें

आंखें

आंखेंना जाने कितना कुछ कह जाती ये आंखें,बिन मतलब के भी दर्द सह जाती ये आंखें।कभी तो बिन बोले भी बोल जाती ये आंखें,कभी बोल कर भी ना समझा पाती ये आंखें।खुशी में भी छलक पड़ती ये आंखें, ग़म में भी...

और पढ़ें

तेरा प्यार

तेरा प्यारतेरी आगोश किसी जन्नत से कम नहीं, तेरा सीना, खुले आसमान सा लगता है मुझे, तेरे इन नशीले चक्षुओं में डूब कर मैं खुद को ढूंढने की कोशिश में और भी खो गई हूं, लिपट कर तेरे तन के पेड़ से, बोगनवेलिया की बेल सी...

और पढ़ें

वो इश्क था

वो इश्क थाहां वो इश्क ही था, तो थी एक झलक देखने के लिए दिल की अंजुमन में खलबली का मचना,वो बार-बार गली के उस छोर को तकते रहना, वो मन्दिर में बहाने से एक साथ जाना और फिर हमारा टकरा जाना। वो इश्क ही था।...

और पढ़ें

सुहानी सुबह#जनवरी की कविता

काश की एक ऐसी सुबह आये,गम के ही सारे बादल छंट जाये,वो खुशियों भरी रोशनी में हम सब, अधूरे ख्वाबों को पूरी कर पाये।रवि किरणों के प्रखर तेज से रोशन हो जीवन,कुसुम सा सुवासित हो हर मन का आँगन,पक्षियों...

और पढ़ें