केटेगरी : मानसिक स्वास्थ्य और सुरक्षा

क्यों उठते हैं आखिर ऐसे कदम !

सुशांत सिंह राजपूत ३४ वर्ष के युवा सफल बॉलीवुड अभिनेता की फांसी लगाकर आत्महत्या करने की खबर ,कुछ कह कर गयी है। इस बारे में लोगों के अलग अलग मत है किसी के लिए बॉलीवुड की चमक धमक इसकी वजह है तो किसी ने कहा अकेलापन उनको निगल गया।...

और पढ़ें

सुशांत सिंह राजपूत-आखिर क्यों?

ग्लैमर,चकाचौंध, लाइमलाइट जिसे सब जीना चाहते हैं।सभी का सपना होता है एक शानोशौकत व आराम भरा जीवन जीना पर इस चकाचौंध के तले एक गहरा अंधेरा है।वह अंधेरा इतना भयावह की जिसके तले सिर्फ निराशा और घुटन है। उन्हीं चकाचौंध के अंधेरे...

और पढ़ें

काली है तो क्या दिल वाली है

मेरा रंग सावला है इसलिए मुझे कहीं आने जाने में शर्म महसूस होती है मुझे रंग साफ करने का कोई तरीका बताए। एक मैगजीन पढ़ते हुए अचानक इन लाइनों पर मेरी नजर ठहर गई। इसे पढ़कर लगा जैसे आज भी जब हम चांद पर पहुंचने की बात कर रहे...

और पढ़ें

सपनो के बीच उम्र का बंधन नहीं

गरिमा दो बच्चों की माँ थी। बेटा सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और मुम्बई में रहता है। छोटी बेटी रिया कॉलेज के अंतिम वर्ष की छात्रा है। दोनों बच्चे बड़े हो गए थे, शादी के 30 साल कैसे बीत गए पता ही नहीं चला। जब शादी हुई तब गरिमा...

और पढ़ें

महिलाओं में डिप्रेशन के 9 लक्षण

क्या आपका मूड इतना बदलता है कि आप  क्या चाहती हैं यह आपको समझ ही नहीं आता? या फिर इन दिनों आप  किसी भी चीज में रुचि नहीं लेती? चाहरदीवारी को घर में बदल देने वाली महिलाएं घर की खुशहाली के लिए हर संभव प्रयास करती...

और पढ़ें

सुंदरता की परीभाषा,

  सुंदरता की कोई एक परीभाषा नहीं है हर व्यक्ति के लिए अलग होती है।  सुंदरता आपकी अपनी सोच और दिषिटीकोंण में है। हमे  ईश्वर ने सुंदर या कुरुप जैसा भी बनाया है हमें ‌अपने‌गुणों से...

और पढ़ें

समझदारी , साझेदारी बनाए घर को स्वर्ग

हम नारी सशक्तिकरण की कितनी भी बातें कर ले, यह विचारधारा तब तक सफल नहीं हो सकती जब तक नारी नारी का सम्मान ना करें, पुरुषों ने तो नारी को आदि काल से निम्न ही  समझा । सबसे पहले हमें अपने घर से ही नारी सशक्तिकरण की शुरुआत करनी...

और पढ़ें

ससुराल का पहला दिन और घुटन

तृप्ति के सारे मेडिकल टेस्टों की रिपोर्ट आ चुकी थी।टाइफाइड निकला था।तृप्ति के मम्मी पापा के तो हाथ पाँव ही फूल गए थे।डॉक्टर ने कहा -"आप लोग परेशान न हों।कुछ दिन इन्हें रेस्ट करना पढ़ेगा बस"। टेंशन टाइफाइड का नहीं था, पाँच दिन बाद...

और पढ़ें

सच से बड़ा झूठ

रात ढल चुकी थी परन्तु संजना की आँखों से कोसों दूर थी । विनय भी तीन दिनों के लिए शहर से बाहर गये हुए थे । जब विनय घर पर न हों तो घर जैसे काटने को दौड़ता है । सासूमाँ के कटाक्ष और तीव्र हो जाते हैं । वैसे तो वे ताने देने से कभी नहीं...

और पढ़ें

मैं भी जी भर सोना चाहती हूँ

पुष्प और नंदिनी दोनों ने 12वीं तक की पढ़ाई एक साथ की थी। 12वीं के बाद दोनों अपने-अपने रास्तों पर निकल पड़ी । नंदिनी ने डॉक्टर बनना पसंद किया तो दूसरी तरफ पुष्प ने प्रोफेसर बनने के लिए पढ़ाई की ।...

और पढ़ें