केटेगरी : मानसिक स्वास्थ्य और सुरक्षा

बावरा मन

बकवास बाजियां चल रही हैं आजकल मन की। इसने सब इतना उलझा दिया हैं कि शब्द नहीं हैं बताने को .... यह इतना भी सरल नहीं... मुझ जैसा हैं सीधा सादा पर भीतर से उलझनों से भरा... बेवकूफ... ना समझ... नालायक सा। आजकल मन पहले जैसा...

और पढ़ें

थर्सडे पोएट्री चैलेंज

बस अब बस,बाॉडी शेमिंगबचपन से कानों में ये ही आवाजें आती थीकद है इतना छोटा,मिलेगा कैसे तुम्हें दूल्हासमझ ही नहीं पाती थी,इस बात का अर्थकौन सा रिश्ता है ये ब्याह और कद के बीचक्या शादी ब्याह बस कद देख कर होता है।मेरी...

और पढ़ें

पल भर रूक जाओ दोस्तो!

जिंदगी चलने का नाम है ।रोज रूटीन से चलेंगे तो जिंदगी बेहतर होगी ,यह सारी बातें हम हमेशा पढ़ते हैं और उसी को अपनी...

और पढ़ें

मुझे हमदर्दी नही चाहिए, प्यार चाहिए

"मुझे किसी की हमदर्दी नहीं चाहिए ,अकेला छोड़ दो मुझे ,"हमेशा हमें ऐसे लोग मिल जाते हैं जो भीड़ में भी खुद को...

और पढ़ें

दिल को समझाएं और कहें ALL IS WELL

वसुधा ने देखा आज उनके पति प्रकाश जी करवट पर करवट ले रहे थे, कभी पानी पीने उठते थे तो कभी वाशरूम जाने के लिए।...

और पढ़ें

लाॅक डाउन में स्त्री की कसौटी

न कभी देखी न सुनी ऐसी महामारी ने समाज के हर वर्ग को तोड़ कर रख दिया है ऐसे में सबसे ज़्यादा असर गृहिणी और कामकाजी...

और पढ़ें

मरीजों से नर्स का सौहार्दपूर्ण नाता

"स्पर्श, प्यार और परवाह दवाई का दूजा नाम जब पिलाए परिचारिका अपने हाथों से इलाके या काढ़ा मरीज़ के हर दर्द भागे...

और पढ़ें

आलोचना मुझे पसंद है

" दादी माँ!मुझे किसी से बात नहीं करनी ।""क्यों बेटा ?""जब देखो सभी मेरी शिकायत करते रहते...

और पढ़ें

मुस्कुराने के पैसे नही लगते!

"समीर !यह क्या हमेशा मुँह लटकाए घूमते रहते हो ?तुम्हें हँसी नहीं आती क्या? हँसना तो दूर तुम तो मुस्कुराते भी नहीं हो।तुम्हें खुद नहीं याद होगा कि लास्ट टाइम तुम कब मुस्कुराए थे।"शमिता गुस्से में बोले जा रही थी ।"फालतू की...

और पढ़ें

दो शब्द प्यार के :एक दवा

ये सच है कि हर मर्ज़ में चाहिए दवा,इसमें बेहतरी भी है और है समझदारी भी । फिर भी कुछ दवाएँ जो होती हैं  तमाम रसायनों से मुक्त, घुली होती है उनमें इंसानियत की खुराक और रहमदिली , किसी...

और पढ़ें