14 फरवरी: #PulwamaAttack यादें

14 फरवरी: #PulwamaAttack यादें

14 फरवरी का दिन पूरी दुनिया में वैलेनटाइन डे के रूप में मनाया जाता है. लेकिन भारत के लिए यह एक काला दिवस है।

14 फरवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले ने देश को झकझोर कर रख दिया था। यह उड़ी में हुए आतंकी हमले से भी बड़ा था। हमले में 40 जवान शहीद हो गए। हमला जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाकर किया गया। इस काफिले में 2500 जवान शामिल थे।


उस घटना के जख्म आज तक हरे हैं, जब आतंकवादियों ने इस दिन को देश के सुरक्षाकर्मियों पर कायराना हमले के लिए चुना। देश का बच्चा-बच्चा उस घटना के बाद गम और गुस्से से उबल पड़ा था। 

आतंकियों की कायराना हरकत से देश ने अपने 40 सपूतों को खो दिया था।

1989 के बाद जवानों पर हुआ ये सबसे बड़ा हमला था. इस हमले ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. इसके साथ ही ये सवाल भी उठा कि आखिर इतने बड़े जवानों को ले जाते समय आखिर निजा वाहनों को क्यों नहीं रोका गया।


आपको याद होगा कि जब पिछले साल 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमला हुआ था, तो उसके बाद पाकिस्तान के प्राइम मिनिस्टर इमरान खान खुद को पाक-साफ साबित करने में जुटे थे. बेशर्मी से दुनिया के सामने झूठ बोलते रहे और भारत से सबूत मांगकर ड्रामा करते रहे।

उसके बाद 27 फरवरी 2019 को विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने जो वीरता एवं पराक्रम दिखाया, वह हमेशा के लिए स्वर्णाक्षरों में अंकित हो गया है। इस दिन 
अभिनंदन ने न केवल पाकिस्तानी वायु सेना के ताकतवर लड़ाकू एफ-16 को मार गिराया बल्कि दुश्मन के हाथों पकड़े जाने के बावजूद उनके तेवर एवं साहस में कोई कमी नहीं आई। वह पूरे सम्मान के साथ वापस स्वदेश लौटे। 

भारत की तैयारी एवं अंतरराष्ट्रीय दबाव के आगे पाकिस्तान को झुकना पड़ा और उसने तीसरे दिन अभिनंदन को रिहा करने का फैसला किया। 


हमारे सुरक्षित भविष्य के लिए अपना सर्वस्व बलिदान करने वाले पुलवामा हमले के अमर बलिदानियों को कोटिशः श्रद्धांजलि, और उनके परिवारों को नमन. देश आपका ऋणी है !
जय हिंद!

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0