The Pink Comrade

ओखली में सर दिया तो मूसल से क्या डरना

कुछ गंभीर समस्याएं थी जो सभी स्त्री पुरुष और रहवासी  भुगत रहे थे आजादी के बाद भी ऐसी स्थिति देखकर हमारे परिचित कुछ गणमान्य वरिष्ठ...

Read More

नानी याद आएगी

बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे. नींद आ जाती थी परियों की कहानी सुनकर. नानी -दादी कहानी सुनाया करती थी सफेद घोड़े पर चढ़कर मेरी...

Read More

आग लगा के जमालो दूर खडी़

बहनजी बिचारी बहुत सीधी थी पूरे मौहल्ले के सामने गाय बनती थी पर सच्चाई सब जानते थे कि अपने घर पर शेरनी बनकर रहती थी दोनों बच्चे थे...

Read More

जाके पाँव न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई

गीता के साथ ननद , रेखा भी रहती थी जो गीता की काम में किसी प्रकार की मदद न करती थी सास - ससुर सयाने थे सो उन्हें दो वक्त की रोटी से...

Read More

बरसात के मौसम में वायरल फीवर से कैसे बचें

इस मौसम में हम कुछ सावधानियां अपना कर अपने आप को वायरल फीवर से बचा सकते हैं ।

Read More

माँ की चोरियां

कल्पना करिये एक गांव में ब्याही स्त्री जहाँ उसकी खुद की कदर एक काम करने वाली काया से अधिक कुछ नही ।क्या उसकी बच्ची को मिलते होंगे...

Read More

बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़कर सनाया जैसे ही मुंबई लौटी, उसने एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब कर लिया ।क्योंकि उसके माता पिता चाहते थे...

Read More

नाच न जाने आँगन टेढ़ा

पिछले जाड़ो की बात हैं..जनवरी की गुनगुनी धूप में हम सभी बैठे थे..खेत मे लगे ताज़े माल्टे (मौसम्बी की प्रजाति का खूब रसीला पहाड़ी फल)...

Read More

जी चाहता है

कुछ पल अकेले ठहरने को जी चाहता है खुद से करूँ खुद की गुफ्तगूँ वो लम्हे चुराने को  जी चाहता है।

Read More

तुम मेरी सहेली हो

उसका आना मेरे लिए जीवन की नई शुरूवात थी या ये कहो जब से वह मेरी जिंदगी में आई मेरे जीवन को देखने का नजरिया ही बदल गया।छोटी छोटी बातों...

Read More