आंचल गंगवाल फादर्स डे पर पिता को दिया शानदार तोहफा

आंचल गंगवाल फादर्स डे पर पिता को दिया शानदार तोहफा

कड़ी मेहनत के बलबूते मंजिल को छूना नामुमकिन नहीं. इस बात को सच साबित किया है मध्य प्रदेश की एक जाबांज बेटी ने. जिसने ना सिर्फ अपने परिवार का गौरव बढ़ाया है बल्कि प्रदेश का नाम भी ऊंचा किया है. चाय विक्रेता की बिटिया आंचल गंगवाल को वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर का कमीशन मिला है. उनके पिता आज भी नीमच में चाय की दुकान चलाते हैं.

20 जून को हैदराबाद में संयुक्त स्नातक पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया था. मार्च पास्ट के बाद आंचल गंगवाल को राष्ट्रपति पट्टिका से सम्मानित किया गया. आंचल को भारतीय वायु सेना प्रमुख बीकेएस भदौरिया की मौजूदगी में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में कमीशन मिला. आंचल गंगवाल का वायु सेना के प्रति आकर्षण शुरू से ही था. उन्होंने इसके लिए दो सरकारी नौकरी छोड़ चुकी थीं।

आंचल ने उत्तराखंड त्रासदी के वक्त वायु सेना का हिस्सा बनने का फैसला किया. मेहनती आंचल पहले मध्य प्रदेश में पुलिस सब इंस्पेक्टर के पद पर तैनात थीं. उसे छोड़ने के बाद उनका चयन श्रम इंस्पेंक्टर के पद पर हुआ. मगर आंचल का मकसद तो वायु सेना का हिस्सा बनने का था। अपने सपनों को पंख देने के लिए उन्होंने सरकारी नौकरी की परवाह नहीं की. दोनों नौकरी से अलग होने के बाद उन्होंने वायु सेना का सफर किया।

पासिंग आउट परेड में परिजनों ने बेटी को देखा ऑनलाइन

आखिरकार जब शनिवार को पासिंग आउट परेड में बेटी को मार्च पास्ट करते परिवार ने देखा तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. परिजनों की आंखों से आंसू छलक आए. हालांकि उनके पिता सुरेश को कार्यक्रम में शिरकत करने हैदराबाद जाना था मगर कोरोना महामारी की वजह से ऐसा नहीं हो सका. उन्होंने घर बैठे गौरवमयी पल को ऑनलाइन ही देखा।
आंचल के पिता  ने बताया कि शनिवार को बेटी आंचल गंगवाल को इंडियन एयरफोर्स में कमिशन प्राप्त हुआ है। डंडीगल एएफए में हुई पासिंग आउट परेड में आंचल के माता-पिता शामिल तो नहीं हो सके, मगर टीवी पर बेटी की कामयाबी देख परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई।
 गंगवाल कहते हैं कि फादर्स-डे 2020 पर बेटी आंचल ने सफलता हासिल कर उन्हे  सबसे  बड़ा तोहफा दिया ।

3 दिन तक प्रैक्टिस पीरियड में पानी तक नहीं पिया
आंचल के फिजिकल ट्रेनर किशन पाल ने बताया कि मुझे अच्छे से याद है कि इनके पिताजी ने कितनी मुश्किलों से उस बच्ची को पढ़ाया। उस लड़की का सबसे मुश्किल समय तब था जब उसने मुझे बताया कि सर मेरे पास 24 दिन हैं और मुझे 9 किलो वजन कम करना है। आंचल गंगवाल ने 3 दिन तक प्रैक्टिस पीरियड में पानी तक नहीं पिया था।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आंचल की सफलता पर उन्हें बधाई दी है.मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, ''नीमच में चाय की दुकान लगाने वाले सुरेश गंगवाल जी की बेटी आंचल अब वायुसेना में फाइटर प्लेन उड़ाएगी. मध्य प्रदेश को गौरवान्वित करने वाली बेटी आंचल अब देश के गौरव और सम्मान की रक्षा के लिए अनंत आकाश की ऊंचाइयों में उड़ान भरेगी. बेटी को बधाई, आशीर्वाद और शुभकामनाएं.''

अनु गुप्ता

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0