बचपन के वो प्यारे दिन

लौटा  दे ये खुदा वो बचपन के प्यारे दिन जहाँ मिलकर सभी बहन और भाई एक बार फिर से ये पर्व मना सके और अपना बचपन दोबारा जी सके।।

बचपन के वो प्यारे दिन

भाई बहन के प्यार का प्रतीक हैं रक्षाबंधन। 
भाई बहन के पवित्र रिश्ते को मजबूत प्रेम पूर्ण आधार देता हैं ये त्यौहार ।


बचपन के वो दिन थे प्यारे
बहन भाई सब मिलकर रहते थे सारे।
लड़ना झगड़ना तो चलता रहता था
बात बात में टांग खेचना ये काम तो
बहन भाई को अच्छे से आता था।

बात बात में क्या कह जाते थे
किसको को कुछ समझ नही आता था
आने दे रक्षाबंधन तुझे कुछ ना दूँगा
ये सब कहकर भैया चिढ़ाते थे।
देगा तो तब ना जब मैं तेरे राखी बाँधूँगी ये धोष बहने भी खूब देती थी।।

दोनो के प्यार को देख घरवाले भी हँसते रहते थे,क्यों लड़ते हो इतना तुम ये समझाते रहते थे
रक्षाबंधन का दिन आते ही हाथ 
सारी राखियो को इकट्ठा किया जाता था,बड़ी बड़ी राखियो को चुन चुनकर हाथ राखियो से भर जाया करता था।

किसके हाथ मे ज्यादा राखी बंधी है ये
कंपीटिशन भी रखा जाता था।
भाइयों के हाथों एक धागा बाँधकर 
बड़े प्यार से मिठा खिलाया जाता था।


मुझे गिफ्ट बड़ा चाहिए बस ये मांग सदा ही रहती थी।
जब आती गिफ्ट देने की बारी 
भैया हाथ झाड़ देते थे कुछ नही है देने को बस हमे चिढ़ाते थे।।

ओ कंजूस मक्खी चूस ये कहकर उसे चिढ़ाते थे।
मत दे हमे कुछ बस एक वादा आज एक कर ले 
भैया सदा मेरा साथ निभाना अपनी प्रेम के इस धागे का फर्ज निभाना बस ये ही गिफ्ट तो हम बहनो का था।

तेरी सदा रक्षा करूंगा,हमेसा तेरे सुख दुःख में साथ दूंगा इस धागे का सदा मान रखूंगा ये तेरे भैया का वादा है।
सच मे भाई बहनों का ये त्यौहार सभी त्योहारों में प्यारा हैं।।

अब कहा रही हैं वो बात वो त्यौहार
बड़े हुए सब दूर हो गए 
भाई बहन सब अपने काम मे व्यसत हो गए।
बचपन के वो प्यारे दिन आज कहि गुम हो गए,

अब नही रहा वो रिश्ता और आपसी प्यार रिश्ते नए नए ज़िंदगी से जुड़ते चले गए बचपन के रिश्ते तो अब दूर हो गए।। अपनो से बेगाने हो गए।

अब तो रक्षाबंधन पर ना बहन आ पाती हैं ना भैया बस ज़िंदगी की उलझनों में उलझकर रह गए है।
आऊंगा समय मिलने पर ये कहकर अब दूर हो गए है। 

लौटा  दे ये खुदा वो बचपन के प्यारे दिन जहाँ मिलकर सभी बहन और भाई एक बार फिर से ये पर्व मना सके और अपना बचपन दोबारा जी सके।।

ममता गुप्ता 
स्वरचित व मौलिक

#भाई और मेरा बचपन(रक्षाबंधन स्पेशल)

#ब्लॉग लेखन प्रतियोगिता

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0