चंदना हीरन जिसकी वजह से 'Fair & Lovely' क्रीम को बदलना पड़ा है अपना नाम

हमारे समाज मे लड़कियों  के काले रंग को लेकर बहुत चर्चा होती है काले रंग को सुंदरता की  कसौटी पर परखा जाता है। सालों से चल रहे फेयर एंड लवली के विज्ञापन को बदल देने वाली लड़की के बारे में हम आज आपको बताएंगे । उनके शब्द है .....

चंदना हीरन जिसकी वजह से  'Fair & Lovely' क्रीम को बदलना पड़ा है अपना नाम

हमारे समाज मे लड़कियों  के काले रंग को लेकर बहुत चर्चा होती है काले रंग को सुंदरता की  कसौटी पर परखा जाता है। सालों से चल रहे फेयर एंड लवली के विज्ञापन को बदल देने वाली लड़की के बारे में हम आज आपको बताएंगे । उनके शब्द है .....

"मुझे 'हिंदुस्तान यूनिलीवर' से कोई पर्सनल प्रॉब्लम नहीं है. मुझे सिर्फ़ उनके ब्यूटी प्रोडक्ट 'Fair & Lovely' से दिक्कत है. वो इस प्रोडक्ट के ज़रिए लोगों को ग़लत सन्देश दे रहे हैं. मुझे लगता है ये एक सभ्य समाज के लिए ठीक नहीं है".


ये शब्द हैं मुम्बई की 22 साल की चार्टेड एकाउंट की अंतिम वर्ष की छात्रा  चंदना हिरन के जिनकी मुहिम के आगे देश की जानी मानी कम्पनी हिंदुस्तान लीवर को अपने प्रोडक्ट फेयर एंड लवली से फेयर शब्द को हटाना पड़ा।


चंदना ने कुछ हफ्ते पहले  'हिंदुस्तान यूनिलीवर'के ख़िलाफ़ एक ऑनलाइन याचिका दायर की थी, जो बहुत  कारगर साबित हुई. Change.org पर दायर इस याचिका को महज़ दो हफ़्ते के अंदर ही 15,000 हस्ताक्षर मिल गए.जो इतने कम समय में कमाल का काम था ।

इसका इतना असर हुआ कि देश की जानी मानी कंपनी 'हिंदुस्तान यूनिलीवर'  को एक जनहित याचिका के बाद अपनी प्रसिद्ध ब्यूटी क्रीम 'Fair & Lovely' का नाम बदलकर 'Glow & Lovely' करना पड़ा. कंपनी ने 'Fair & Lovely' क्रीम के नाम से 'Fair' शब्द हटा दिया है ।

News18 से बातचीत में चंदना ने कहा कि

"इंसान की त्वचा के कलर को लेकर भेदभाव करना एक बेतुका विषय है. मेरा रंग भी सांवला है, इससे मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता. मैं अक्सर देखती हूं कि मेरी तरह दिखने वाली कई लड़कियां अपने रंग को लेकर परेशान रहती हैं.बॉलीवुड में मेरी त्वचा के रंग की कोई भी टॉप एक्ट्रेस नहीं है.मैगज़ीन सांवले रंग की त्वचा वालों को एंडोर्स ही नहीं करते.सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर भी मुझे ब्यूटी फ़िलटर्स और फ़ोटो एडिटिंग टूल्स देखने को मिल जाते हैं. ये सही बात नहीं है"।

चंदना  कई सालों से नंदिता दास के साथ  'डार्क इज़ ब्यूटीफ़ूल' आंदोलन के साथ जुड़ी हुई हैं ।

समाज मे काले और गोरे रंग के मिथक को तोड़ने के लिए चंदना का ये प्रयास बहुत ही काबिलेतारीफ है ।

अन्तिमा सिंह

पिंक क्रेडिट इंस्टाग्राम 

What's Your Reaction?

like
2
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0