गोरा काला और PROGRESSIVE INDIANS

हमारे यहाँ काले-गोरे का कोई फर्क नहीं | शादी से पहले हमारे लड़के-लड़कियां बिल्कुल भी रंग पर नहीं जाते बल्कि वो तो गुणों को देखते हैं | करोङो अरबो के सौन्दर्य प्रसाधन पता नहीं कौन खरीद रहा हैं क्यूंकि हम तो नहीं खरीद रहे हैं |

गोरा काला और PROGRESSIVE INDIANS

अंग्रेजी की एक कहावत हैं don't beat around the bush मतलब सीधे सीधे मुद्दे की बात करना | अमेरिका के शहर मिनंपोलिस के श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा सभी नियम कानून को ताक पर रख ,एक अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन पर लगातार 9 मिनट तक अपने घुटनो से दबाये रखना और अंतत इस इरादतन हत्या को अंजाम देना , अमेरिका की नसों में  छुपी रंग भेद की बीमारी दिखाती है | शुक्र है हम भारतीय इन अमेरिकियों की तरह गंवार नहीं हैं |

हम लोग हिन्दू मुस्लमान , सिख , ईसाई , पारसी , जैन और कुछ भी हो सकते हैं काले गोरे नहीं | हम इतने प्रगतिशील हैं एक हमारा बॉलीवुड दिन भर हमसे चीख चीख कर फेयरनेस क्रीम खरीदने को कहता हैं लेकिन हम नहीं खरीदते हैं | वो ज़माने गए जब केवल महिलाओ के लिए गोरेपन की क्रीम आती थी। अब केवल औरत के लिए नहीं, मर्दो के लिए भी गोरी वाली क्रीम हैं | खान तिकड़ी में गिने जाने वाले एक मशहूर अभिनेता, इस क्रीम को बेचते नजर आते हैं | हमारा बॉलीवुड काले गोरे पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं करता हैं ये बात अलग कि काम किसको देता है | भगवान् जाने ये कम्पनियां इतने करोडो रूपए कहा से कमा रही हैं | 

ट्विटर पर #alllivesmatter का टैग यहाँ इंडिया में चलने की जरुरत ही नहीं है | हम भारतीय लडके लड़कियां अपनी विवाह से पहले सामने वाली पार्टी का रंग नहीं देखते हैं बल्कि दहेज़ , सरकारी नौकरी, जात -पात देखते हैं | यदि हमारी अभिनेत्रियां अपने रंग को फोटोशॉप से छुपा कर गोरा दिखाती हैं तब भी हम बुरा नहीं मानते हैं | हमें काले से बिल्कुल भी परहेज नहीं हैं , बस प्यार भरे मजाक के लिए दक्षिण और पूर्वोत्तर के लोगो को कुछ नाम दे दिए हैं |

हम भारतीय बॉलीवुड के सुपरहिट गाने जैसे "गोरे गोरे  मुखड़े पे काला काला चश्मा " , "गोरिया , चुरा न मेरा जिया " और "गोरी गोरी गोरी गोरी " बिलकुल भी नहीं सुनते हैं , हाँ | हम तो कहते हैं "गोरे रंग पे इतना गुमां न कर , गोरा रंग दो दिन में ढल जाएगा " | हमें सनी लियॉन पसंद हैं लेकिन केवल उनकी अभिनय कला की वजह से , उनकी एक्टिंग बहुत ही रीयलिस्टिक हैं, बाकी और कोई कारण नहीं हैं | बेशक काले रंग को शुभ नहीं मानते लेकिन चलिए उसे तो परंपरा के नाम पर छोड़ दीजिये | बाकी सभी अर्थो में हम प्रगतिशील हैं , सच्चे अर्थो में  | 

हमारे अंदर एक और खासियत हैं , हम खुद से झूठ बहुत अच्छी तरह बोल लेते हैं !

#No More body shaming

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1