मातृत्व अवकाश को करें एंजॉय ....

मातृत्व अवकाश को करें एंजॉय ....

नन्हें शिशु का आगमन और साथ ही मातृत्व अवकाश….। मातृत्व अवकाश नन्हे शिशु और माँ की स्वयं की देखभाल के लिए बहुत कारागार सिद्ध होता है । जी हाँ , मातृत्व अवकाश में नन्हें शिशु की देखभाल कामकाजी महिलाएँ बहुत सुविधाजनक और बेहतर तरीके से कर पाती हैं । साथ ही साथ डिलीवरी के दौरान स्वयं में आई हुई कमियों को भी वे बखूबी पूरा कर सकती हैं ।

आज इस ब्लॉग में हम आपको मातृत्व अवकाश को मजेदार तरीके से कैसे बिताया जा सकता है , इसके बाद में बताएँगे । 

यदि आप कामकाजी महिला हैं और आपको 3-6 महीने का मातृत्व अवकाश प्राप्त हुआ है तो ध्यान रखिए कि यह मातृत्व अवकाश के दिन आपके दिमाग के आराम करने का समय होता है। आज हम आपको बताएँगे कि कैसे आप अपने मातृत्व अवकाश का सबसे अधिक फायदा उठा सकती हैं और अपने शिशु के साथ अधिक से अधिक खुशनुमा पल बिता सकती हैं और उन्हें एंजॉय कर सकती हैं।

चलिए जानते हैं मातृत्व अवकाश को एंजॉय करने के मजेदार तरीके…..

1.मातृत्व अवकाश में बाहर घूमने अवश्य जाएँ -

हर रोज़ कम से कम एक-बार तो अवश्य ही आप बाहर घूमने या टहलने जाएँ । इससे आप एक्टिव भी रहेंगी साथ ही आपका मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। अकेलेपन  से आपके मन में बेकार के ख्याल आते रहते हैं। यह शिशु की सेहत-स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव छोड़ते हैं। बेकार के ख्यालों से बाहर निकलें और अपने आस-पड़ोस में घूमने जाएँ । कोशिश करें कि आप ऐसी जगहों पर जाएँ, जहां अन्य माएँ भी अपने बच्चों के साथ खेलने या टहलने आती हों । 

2.मातृत्व अवकाश में मित्र-मंडली में घुल-मिल कर रहें -

नए-नए अभिभावक बनना बहुत खुशी महसूस करवाता है परंतु कईं बार अकेलेपन का एहसास भी हो सकता है । खासतौर से जब आपके घर में कोई बड़ा न हो और सारी ज़िम्मेदारी आप पर.आ गई हो.। तो अगर आप टहलते समय अन्य गर्भवती महिला को देखें तो उनसे बात करने की कोशिश करें। इससे न केवल आपको अच्छा महसूस होगा बल्कि आप सुरक्षित भी महसूस करेंगी।आपको अन्य महिला से शिशु की देखभाल के बारे में भी कुछ नया सीखने को मिलेगा । नए दोस्त-मित्र बना लेने से आप अपने मातृत्व अवकाश का अच्छे से मज़ा कर सकती हैं।

3.वास्तविकता स्वीकारें

माँ बनने और नए शिशु के आने पर बहुत कुछ बदल जाता है , जितनी जल्दी आप नए बदलावों को अपनाएँगी उतनी ही जल्दी आपको घर की जिम्मेदारियाँ उठाने और बच्चे की देखभाल में खुशी महसूस होने लगेगी। समय के साथ-साथ शिशु के काम करने के आसान तरीकों और घर की बढ़ती ज़िम्मेदारियों को उठाने तक आपको कई नई चीजें सीखने को मिलेंगी, लेकिन तब तक आपको धैर्य रखने की ज़रूरत है । जीवन की सहजता को एक बार फिर से लाने के लिए आपको धैर्य रखकर चलना होगा।

4.शिशु के पालन-पोषण को एंजॉय करें - 

नन्हें शिशु का पालन-पोषण करना शुरू-शुरू में मुश्किल लग सकता है परंतु यह समय बहुत खूबसूरत और मनोरंजक होता है। जहाँ हम पहली बार बच्चे को नहलाने से डरते हैं , वहीं थोड़े दिनों बाद बच्चे को नहलाते हुए उसके सुंदर एक्सप्रेशन देखकर मंत्रमुग्ध होते रहते हैं । इसी तरह बच्चे की पल-पल की एक्टिविटीज को देखते हुए हम रोमांचित होते रहते हैं । शिशु के पालन-पोषण के इन खूबसूरत पलों को एंजॉय करें ।इससे आपको अपने कार्यों को करने के लिए भरपूर एनर्जी मिलती रहेगी।

5.मातृत्व अवकाश की किताब बनाएँ -

नन्हें शिशु के आने के बाद आपकी रूटीन में पूरी तरह से बदलाव आ जाता है परंतु आपकी सोच पर कोई पहरा नहीं लगा सकता है । आप बच्चे के कार्यों को करते समय भी अपने ऑफिस कार्यों के बारे में सोच रही होती है या सोच सकती हैं। इस दौरान आपके मन में जो भी खूबसूरत अच्छे ख्याल आते हैं उन सब को संजोने का प्रयास करें । अपने रोजाना के खूबसूरत विचारों को एक डायरी में लिखना शुरू कर दें । यदि आप लिख नहीं सकती हैं तो आप अपने फोन पर ही वॉइस रिकॉर्ड कर सकती हैं ।

जैसे आप लिख सकती हैं कि- 

ऑफिस की किन चीजों की याद आपको सबसे अधिक आ रही है ….

या ऑफिस की कौन सी बातें हैं जिन्हें याद करके आप खुश हो रही हैं ….

मातृत्व अवकाश के दौरान आप कौन से काम करना सीख रही है ….

मातृत्व अवकाश के दौरान मुझे कौन-कौन से काम समाप्त कर लेने चाहिए …..

अपनी भावनाओं को,बच्चे के प्रति उठती उमंगों को भी आप संजो सकती हैं। बजाय कि अपनी बढ़ती जिम्मेदारियों या अपने बदलती दिनचर्या के बारे में सोचते हुए या बुरा महसूस करते हुए। 

आप अपने खूबसूरत विचारों को कोरे पन्नों पर संजोना शुरू करें । इससे आपको आपको अच्छा महसूस होगा, अकेलापन भी नहीं लगेगा तथा बच्चे के काम करने में भी दिलचस्पी बनी रहेगी।



नन्हें बच्चे के जन्म तथा स्वयं के माँ बनने पर गर्व महसूस करें । स्वयं को भाग्यशाली समझें और इन पलों को एंजॉय करें।

मधु धीमान







What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0