हौसलों की उड़ान

हौसलों की उड़ान

डियर साल 2020,

बहुत खराब लग रहा है कि तुम इस बार हर बार की तरह ढेर सारी खुशियां लेकर नहीं आए हमारी जिंदगी में। बल्कि इस साल तो तुम हम सभी के लिए आगे से आगे चुनौती लेकर खड़े रहे।

इस साल की शुरुआत से ही सब तरफ अप्रिय समाचार व दिल दहला देने वाली घटनाएं ही सुनने को मिलती रही, कहीं आगजनी, कहीं बाढ़ का कहर, कहीं बलात्कार, तो कहीं पर बलात्कार के बाद जिंदा जलाना। ऐसी घटनाओं को सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते। और तुम पर बहुत गुस्सा आता कि तुम ऐसा दुखी वक्त क्यों लाते हो हम सबकी जिंदगी में।

ये सब तो चल ही रहा था कि मार्च का महीना आते - आते तुमने फिर से सबकी जिंदगी को मुश्किल में डालना शुरू कर दिया। कोरोना जैसी महा बीमारी देकर।

लॉक डाउन की वजह से पूरी दुनिया घरों में बंद होकर रहने को विवश हो गई। मेरे व मेरे परिवार के सामने तो और बड़ी कठिनाई रही। बेटा पुणे में जनवरी में ही जॉब पर लगा था। उसका खाना वगैरह दोनों वक्त बाहर से ही होता था कभी होटल से तो कभी टिफिन से। लोकडाउन की वजह से और इस महामारी के चलते फिर उसे वापस नहीं भेज पाए, जब वो होली का त्यौहार मनाने हमारे पास यहां आया था। उसका वो जॉब छुड़ाना पड़ा।

व इस कोरोना वायरस के चलते बेटी के ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर के एग्जाम पूरे 8 महीने तक रुके रहे, वो अब जाकर अक्टूबर में पूरे हुए हैं।

और पतिदेव तो तुम्हारे कारण बहुत ही परेशान रहे। लोकडाउन में जब पूरी दुनिया अपने घरों में बन्द थी, तब भी पतिदेव को रोज अपने काम के लिए ऑफिस जाना पड़ा। पतिदेव बैंकर हैं तो बैंक वालों के लिए लॉकडाउन में उस मुश्किल भरे दौर में भी एक दिन की भी छुट्टी नहीं मिली। वो ऐसे वक्त में जब रोज ऑफिस के लिए निकलते तो पूरा दिन हमारा दिल व दिमाग उन्हीं की चिंता में लगा रहता।  हर वक्त दिमाग पर एक डर सा बना रहता कि उन्हें कुछ हो न जाए।

पर हमने भी अपने हौंसलों को कम न होने दिया। पूरी मेहनत से जुटे रहे इस बीमारी से डटकर मुकाबला करने में। पूरी सावधानी रखी हम सब ने अपनी। सेनेटाइजर, मास्क व लोगों से कुछ दूरी का फासला रखकर। बाहर से आये सामान या रोजमर्रा की चीजो को घर मे एक अलग जगह बनाकर उन्हें बिना छुए 12 घण्टे के लिए अलग छोड़ देते थे, ओर फिर उसके बाद ही उन चीजों को काम मे लेते थे।

फिलहाल हम सभी अपना ख्याल रखते हुए पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

तुम्हारा बहुत शुक्रिया कि तुम इस साल जल्दी ही विदा हो रहे हो। बस तुम से यही प्रार्थना है कि अब तुम जल्दी से हमारी जिंदगी से ये सारी परेशानियां व मुश्किलें समेट लो ओर हम सभी को एक सुखमय जीवन जीने का आशीर्वाद दो।

© पुष्पा श्रीवास्तव

#शुक्रिया2020

#thepinkcomrade

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0