माँ(कविता)

  माँ(कविता)

माँ

तुम ही मेरी ज्ञान का सागर
तू ही माँ शिक्षा काआधार
 हर अक्षर माँ तुमसे जाना
मैं अज्ञानी, मूढ़ थी मैं
अथाह सागर को तुमसे पहचाना
मेरे सुख -दुःख की साथी
पथ प्रदर्शक तू ही माँ
अच्छा करूं तो हौसला बड़ाती
भटकूँ मैं तो राह दिखाती
तेरे प्यार को थोड़ा समझूँ
तुमसी सीख न मुझमें माँ
संस्कार मेरे तेरी परछाई
सारे जहाँ मे ना तुमसा माँ
स्नेह का अद्वितीय  खजाना
तुम से जिंदगी का सफर सुहाना

एकता कोचर रेलन( हरियाणा)

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0