मेनोपोज़ समस्या नहीं

पैंतालीस साल की नीलम वैसे तो खुश मिज़ाज ओर हल्के फुल्के ख़याल वाली है, पर अचानक से कभी रोने लगती है, कभी बिना कोई बात के चिढ़ जाती है, कभी डर जाती है। धीरे-धीरे डिप्रेशन की शिकार होती जा रही थी।

मेनोपोज़ समस्या नहीं

आजकल नीलम के बर्ताव से घरवाले परेशान रहते है। कोई समझ नहीं पा रहा था नीलम की उलझन, ना नीलम समझा पा रही थी की उसे क्या हो रहा है।

पैंतालीस साल की नीलम वैसे तो खुश मिज़ाज ओर हल्के फुल्के ख़याल वाली है, पर अचानक से कभी रोने लगती है, कभी बिना कोई बात के चिढ़ जाती है, कभी डर जाती है। धीरे-धीरे डिप्रेशन की शिकार होती जा रही थी।

ऐसी तो ना थी नीलम पर अब हर महीने आने वाले पिरीयडस पाँच दिन के बदले पंद्रह दिनों तक चलते है,कभी फ्लौ बढ़ जाता है तो शरीर में कमजोरी ओर मन में अनगिनत बदलाव आने लगते है।

नीलम जानती है ये मेनोपोज़ के लक्षण है। नीलम मन ही मन घबराती है मोनोपोज़ के बाद महिला जनन शक्ति या गर्भ धारण की क्षमता को खो देती है, क्योंकि ओवरी में इस्ट्रोजेन हॉर्मोन का उत्पादन कम हो जाता है। जिसके कारण उनमें बहुत सारी शारीरिक और मनोवैज्ञानिक बदलाव आते हैं।

पर घर वालों को कैसे समझाए ?

खून में असंतुलन के कारण गर्मी लगती है, दिल तेज धड़कता है, रात में पसीना आता है, नींद नहीं आती है, सवेरे नींद जल्दी टूट जाती हैं, जनन अंग में बदलाव (जेनेटल चेंज) के कारण जननांग में सिकुड़न, सूखापन, खून बहना, पानी गिरना, सेक्स करने में दर्द या न करने की इच्छा आदि।

नीलम को लगता है वो अपनी जवानी खो रही है ओर बुढ़ापे की ओर बढ़ रही है। इस वजह से वो मानसिक रोगी होती जा रही है।
हॉर्मोन्स बदलाव के कारण नीलम की हड्डी में भी बदलाव आया है हड्डीयाँ कमजोर हो गई है इसके कारण जोड़ों, पीठ और मांसपेशियों में दर्द का अनुभव होता है। हॉर्मोन्स में बदलाव के कारण त्वचा रूखी हो गई है, शारीरिक बदलाव के अलावा मानसिक बदलाव भी आया है जैसे थकान, चिड़ाचिड़ापन, उदासी, कुछ भी न करने की इच्छा, याद न रहना, खोये रहना, हर छोटी बात का भय लगना ओर उपर से ना पति उसे समझ पाता है न बच्चे। सबको नीलम का बर्ताव अजीब लगता है, सब अपने हिसाब से सलाह सूचना देते रहते है पर किसीके पास नीलम की परिस्थिति का समाधान नहीं।

नीलम खुद को अकेला महसूस करती है पति अपने काम में मशरूफ है। बच्चे अपनी ज़िंदगी में, दरअसल स्त्री के जीवन का ये एक बहुत ही नाजुक समयकाल होता है। इस परिस्थिति में  सबसे पहले पति का साथ,घरवालों की परवाह ओर अच्छे डाक्टर से परामर्श से कुछ हद तक समस्या हल हो सकती है।

मोनोपोज़ के दरम्यान स्त्री का मूड़ बदलता रहता है उसे घरवालों के साथ ओर सहकार की आवश्यकता होती है।जो स्त्री स्वयं को भूलकर घर परिवार को अपना सबकुछ देती है वो इतनी तो हकदार होती है की उसकी इस नाजुक परिस्थिति में उसे घरवालों का प्यार और परवाह मिले।

हर स्त्री की ये एक ऐसी शारिरीक अवस्था है जिसमें अगर कमज़ोर मन की कोई स्त्री हो ओर उस पर ध्यान दिया ना जाए तो पागलपन के दौरे भी पड़ सकते है ओर मनोचिकित्सक की जरुरत भी पड़ सकती है।

तो स्त्री के उम्र के इस पड़ाव पर उसे अकेला छोड़ने की बजाय उसे प्यार परवाह ओर साथ देकर उसकी पीड़ादायक परिस्थिति को हल्का करने में मदद करें और हर स्त्री को भी अपनी इस अवस्था को स्वीकार करके थोड़ा योगा, प्राणायाम और मेडिटेशन से खुद को स्वस्थ रखने की जरूरत है।।

(भावना ठाकर, बेंगलोर)भावु

What's Your Reaction?

like
2
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0