मेरा प्यारा भाई

मेरा प्यारा भाई

सब की तरह ही मुझे अपना भाई बहुत प्यारा है। वह मुझसे 4 साल बड़ा है। जब से होश संभाला है, उसे अपना ध्यान रखते ही पाया क्योंकि वह मुझसे 4 साल बड़ा है तो शरारतों का तो मुझे ध्यान नहीं लेकिन हां मेरी फिक्र बहुत करता था। कहीं भी जाती, हमेशा मेरी उंगली पकड़े रखता। अपनी चीजें हमेशा मुझसे शेयर करता। मेरी हर प्रॉब्लम वह चुटकी में सुलझा देता है।
हम दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे। मेरा भाई हमारे स्कूल में इंटेलिजेंट बॉय के नाम से मशहूर था। स्कूल के सभी टीचर्स उसे बहुत प्यार करते । उसकी इस पॉपुलरिटी का मुझे बहुत फायदा मिलता। वही टीचर जब मुझे मिले तो यह सुनकर कि मैं उसकी बहन हूं, बड़े खुश होते । यह सोच कर कि मैं भी उसकी तरह इंटेलिजेंट होऊंगी लेकिन कुछ दिनों बाद उनकी गलतफहमी दूर हो जाती।
अपने भाई की मेरे पति प्रेम का एक किस्सा मैं आपको बताती हूं। मैं 10 साल की थी। तब एक दिन मैंने अपनी मम्मी के पर्स से बिना पूछे दस रुपए निकाल लिए। मम्मी को जब यह बात पता चली तो वह बहुत नाराज हुई उन्होंने मुझे बहुत डांटा। मेरे भाई ने मुझे मम्मी को सॉरी बोलने के लिए कहा और वह बोला "मम्मी अब इसे माफ कर दो। आगे से नहीं करेगी।"
लेकिन मम्मी इतनी नाराज थी कि अगले दिन मेरी स्कूल पिकनिक में भी उन्होंने मुझे नहीं जाने दिया।
इस बात पर मेरा भाई बहुत रोया और मम्मी से बोला "मम्मी यह अभी बहुत छोटी है। आप इसे प्यार से समझा सकते थे। इतनी बड़ी सजा देने की क्या जरूरत थी!" वह मम्मी से नाराज हो गया और उसने खाना भी नहीं खाया,उस दिन।
इन बातों को कितने साल गुजर गए लेकिन जब भी याद करती हूं, आंखें भर आती है।
एक घटना और सुनाती हूं। जब मैं आठवीं कक्षा में थी तो सीढ़ियों से उतरते हुए मेरा पैर फिसल गया और मैं गिर गई।  मम्मी पापा दोनों ही अपनी ड्यूटी पर थे। मैं और मेरा भाई घर पर अकेले। मेरे पैरों से खून निकलता देख, वह बहुत घबरा गया। जल्दी से मुझे गोद में उठाकर नीचे उतरा और रिक्शे में बिठाकर डॉक्टर के पास ले गया।
पता है मुझे, वह मेरे सामने तो वह मुझे तसल्ली देता रहा लेकिन मम्मी पापा के आने के बाद दूसरे कमरे में जाकर बहुत रोया था वो।
सच ऐसा ही है मेरा भाई। प्यारा सा कम बोलने वाला लेकिन मेरी बहुत फिक्र करने वाला।
मैं भगवान जी को धन्यवाद देना चाहती हूं कि उन्होंने मुझे इतना प्यारा भाई दिया । हम दोनों का प्यार ऐसा ही बना रहे बस ईश्वर से यही प्रार्थना है।
सरोज ✍️
# मेरा बचपन और भाई

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0