मेरा शहर हापुड़

मेरा शहर हापुड़

  मेरा शहर हापुड़ 
#मेरेशहरकीपहचान
एक लड़की के लिए सबसे प्यारा वह शहर होता है जहां वह जन्म लेती है ,और फिर उसके बाद जहां वह अपनी नई जिंदगी शुरु करती है ऐसा ही मेरा शहर हापुड़ है जहां मैं शादी के बाद गई। यह वह जगह होती है जहां ना तो हम पढ़ाई करते हैं ना बचपन बिताते हैं ,ना हम अपना कॉलेज टाइम बिताते हैं ,पर अपने साथी के साथ प्यारा टाइम  व्यतीत करते हैं ।यही मैंने अपने 15 -16 साल बिताए।
 यहां की एक एक जगह पर मैं आज भी जाती हूं तो मुझे आज भी अपनापन महसूस होता है । अब मैं गाजियाबाद रह रही हूं पर जितना मुझे हापुड़ से प्यार और इसके  बारे में पता है ,उसमें गाजियाबाद के बारे में नहीं। हापुड़ के मंदिर -चंडी मंदिर, दोयमी मंदिर ,मनसा देवी मंदिर और भी बहुत सी ऐसी जगह है जहां हम जब भी मन करता उसी टाइम चले जाते और दर्शन करके आते ।गोल मार्केट की चाट  वहां का बाजार सब आज भी हम मिस करते हैं ।
कहां भी है जहां पर हमारे पहले कदम पडते  हैं ।वह हमारे दिमाग से कभी भी हट नहीं पाते चाहे हम उसके बाद कहीं भी चले जाएं ।
हापुड़ के आर्य समाज मंदिर में  जब सावन की तीज पर झूला पड़कर मेला लगता था और हम सब वहां जाकर खूब मस्ती करते । चारों तरफ हरियाली ही हरियाली दिखाई देती ।
चलिए अब मैं कुछ आपको हापुड़ के इतिहास के बारे में बताती हूं ।
हापुड़ ज़िला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। इसे 28 सितम्बर 2011 को ग़ाज़ियाबाद ज़िले से अलग कर किया गया, और यह उत्तर प्रदेश का सबसे छोटा ज़िला बना। इसकी तीन तहसीलें हैं: हापुड़, गढ़मुक्तेश्वर और धौलाना।
भारत की राजधानी नई दिल्ली से लगभग 60 किमी की दूरी पर स्थित है। इसे पहले ‘हरिपुर’ के नाम से जाना जाता था । यह शहर दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र के अंतर्गत आता है ।
हापुड़ नगर को राजा हरि सिंह ने हरिपुरा नाम से सन 983 ई0 मे बसाया था। कुछ समय बाद हरिपुरा का नाम बिगड़कर हापुड़ हो गया था। यह नगर पूरे भारतवर्ष मे मशहूर है। हर संग्राम और आन्दोलन मे यहां के लोगो ने बढ-चढकर भाग लिया यहां हर वर्ग के लोग सामान्य क्षे़त्र में सक्रिय रहे है।
गांधी जी के आहवान पर गांधी गंज में विदेशी वस्तुओं की होली जलायी गयी थी। नगर के अतरपुरा पुलिस चौकी पर आज भी उन गोलियों के निशान मौजूद हैं जो शहीदों के खून की याद दिलाते रहेंगे।
 कारगिल के युद्ध में हापुड़ के कई जवान शहीद हुए थे।
हर वर्ष शहीदों की याद में शहीद मेले का आयोजन रामलीला मैदान में किया जाता है।
#मेरेशहरकीपहचान
#ब्लॉग प्रतियोगिता 
    Seema Praveen Garg 

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0