केटेगरी : Poetry

#थर्सडे पोएट्री, कुछ तो लोग कहेंगे

मेरे आत्मविश्वास के पंख काटने के लिए,कुछ तो लोग करेंगे,कदमों से जो मैं नाप लो धरातल ये सारा,बेड़ियां बांध पैरों पर,दौड़ मेरी यह रोक लेंगे,जो मैं चुन लूं, जिंदगी की राह अपनी, कुछ तो...

और पढ़ें

जिंदगी फिर मुस्कुराएगी , खुशियों भरी सुबह फिर मुसकुराएगी...

  खुशियों भरी सुबह फिर मुस्कुराएगी ,रेल   जिंदगी की पटरी पर फिर दौड़ लगाएगी,छुक - छुक कर चलेगी फिर ,खिड़की से वो झांकेगी ,मुस्कुराते चेहरो में जिंदगी फिर मुस्कुराएगी ।उठेगी...

और पढ़ें

चूल्हा माटी का

बहुत अजीज है मुझे वो कोना मेरी छत का,जहां बना है एक चूल्हा माटी का। और अजीज है हफ्ते का वह दिन भी दोस्तों, जब चूल्हे पर अपने हाथों से फुलके सेंक, प्यार से मां बन खिलाती है मेरी सासू मां।कभी...

और पढ़ें

मुश्किल है डगर, पर प्यार हो हमसफर

विधा-कविताप्यार है ऐसा धन, बांटें तो और बढ़े,फिर क्यों हम इसे व्यर्थ करें,चलो प्यार बांटते चले,वक्त है सख्त,छोड़कर अपने मान और अभिमान,रूठी जिंदगी...

और पढ़ें

तुम्हारी पहचान हो तुम स्वयं ही ।

तन की परिधि से ,मन की परिधि को नापो ,उम्र को सिर्फ अंको से ना आंको।देखो जब अपने को आईने में ,गर्व और विश्वास हो नजरों में ।पहले खुद को तो स्वीकारो मन से ,बढ़ती उम्र और फैले हुए...

और पढ़ें

झुका दे मुझे बॉडी शेमिंग में इतना दम नही

अक्सर ,अक्सर देखा है मैंने -लोगों को हैरान होते हुए,कुछ नजरों को पढ़ा है मैंने ,चुभते हुए कुछ सवाल लिखते हुए ।कुछ मुस्कुराहटें होती है दबी दबी ,कानों में आंकें कह जाती हैं बातें ...

और पढ़ें

मां

सीने से लगा जो हर घड़कन में छिपी बात को अपने शिशु की समझ लेती हैं,उस मां को में क्या शब्दों में बयां करूं,जो शब्दों के सार को एक पल में समझ लेती है,मां की महिमा उस ख़ुदा से भी महान हैं,जिसने यह संसार...

और पढ़ें

अब भी तो समझो मैं अंतर्यामी नहीं

ये जो तुम कहते हो -मैं समझ जाती हूं तुम्हारी चाहते ,  बिन कहे ही तुम्हारी जरूरते,  तो यह कोई जादू नहीं,  मैं  अंतर्यामी नहीं ।  नहीं मैं अंतर्यामी नहीं,जो स्वाद तुम्हारा...

और पढ़ें

क्षमादान

फिज़ा में छाई ये उदासी,बयां करती है फितरत इंसान की,कई बार दिए थे मौके कुदरत ने संभलने को,संभाल सकता था इंसान ख़ुद की तबाही,आज सांसों के लिए भी देनी पड़ रही है दुहाई,हर दिन कोई अपना दिखाकर जा रहा...

और पढ़ें

रिश्ते भी मांग रहे आक्सीजन

# Thursday poetryजरा सा जो तुम थाम लो अपनों का हाथतो बन जाएगा हर रिश्ता खास,थोड़ा वक्त बिता लो अपनों के साथ,जान लो उनके भी मन की बात, मिल जाएगा आक्सीजन रिश्तों को भी, ना बंद होगी रिश्तों...

और पढ़ें