नेता नहीं वो हमारा अपना अन्नदाता है !

नेता नहीं वो हमारा अपना अन्नदाता है  !

कड़क ठण्ड में ,पानी से नहलाओ ,
हम सभी को ये दे खाने को , 
पर इसे जम के बस लाठी खिलाओ ,
शर्म से न अब कोई लज्जाता है ,
क्या हुआ अगर वो अन्नदाता हैं ?

सर्दी,बारिश, ओला ,इसके खिलाफ ,
सरकार, कानून, व्यवस्था इसके खिलाफ,
भरी धुप में नंगे सर, बस शरीर खपाता है ,
बेवकूफ जनता का क्या  जाता है ,
क्या हुआ अगर वो अन्नदाता है ?

कितने फंदे पर लटक गए ,
कितने उधार तले कुचल गए ,
तुम्हरी खातिर वो मर जाता है 
भीख नहीं , वो अपना हक़ मांगता है,
भूखे मर जाओगे खाने वालो, 
वादों से किसी का पेट नहीं भर पाता है ,
नतमस्तक हो ,  उसका सम्मान करो,
बहुत फर्क पड़ता है, उसकी मांग से 
 नेता नहीं वो, हमारा अपना अन्नदाता है |

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0