सही कहा है औरत ही औरत की दुश्मन

सही कहा है औरत ही औरत की दुश्मन

बेटियों को ना दें मोबाइल, बात करते हुए लड़कों संग भाग जाती हैं।
लड़कियां घंटों मोबाइल पर बात करती हैं. लड़कों के साथ उठती बैठती हैं. उनके मोबाइल भी चेक नहीं किये जाते. घर वालों को पता नहीं होता और फिर मोबाइल से बात करते करते वे लड़कों के साथ  भाग जाती है।

इन सब बातों का निष्कर्ष एक लाइन में यह निकला कि “औरत ही औरत की दुश्मन होती है” 

ये बात हम बचपन से ही मज़ाक से लेकर गंभीर घटनाओं में सुनते हैं| महिला हिंसा या भेदभाव की कोई भी बात हो हमारे घर-समाज में बेहद आसानी से इस कहावत को दोहराया जाता है।

इस कहावत का  ताजा उदाहरण है यूपी राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी

आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला....

महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने विवादित बयान दिया है. मीना कुमारी ने लड़कियों को लेकर ऐसी टिप्पणी की है जिस पर हंगामा हो रहा है।
मीना कुमारी ने कहा है कि लड़कियां घंटों मोबाइल पर बात करती हैं. बेटियों को मोबाइल नहीं देना चाहिए. उन्होंने ये भी कहा कि लड़कियां अगर बिगड़ गई तो उसके लिए उनकी मां पूरी तरह जिम्मेदार हैं।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ पहुंचीं मीना कुमारी ने यहां बयान दिया कि समाज में इस तरह के केस नहीं रुक रहे हैं, हम लोगों के साथ-साथ समाज को इसमें पैरवी करनी होगी. अपनी बेटियों को देखना होगा, कहां जा रही हैं और किस लड़के के साथ बैठ रही हैं. मोबाइल को भी देखना होगा, मैं सबको यही बोलती हूं कि लड़कियां मोबाइल पर बातें करती रहती हैं और यहां तक बात पहुंच जाती है कि वो भाग जाती हैं।

मीना कुमारी ने कहा कि घरवाले बेटियों को मोबाइल ना दें, दें तो उनपर निगाह रखें. सबसे पहले मैं माताओं को कहती हूं कि अपनी बेटियों का ध्यान रखें, ये सब मां की लापरवाही की वजह से बेटियों का हश्र होता है. 

इस बयान पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, 'नहीं मैडम, लड़की के हाथ में फोन बलात्कार का कारण नहीं है. बलात्कार का कारण है ऐसी घटिया मानसिकता जो अपराधियों के हौसले और बढ़ाती है. प्रधानमंत्री जी से निवेदन है सभी महिला आयोगों को ज़रा सेंसिटाइज करवाइए, 


पिंक काॅमरेड्स कमेंट बाक्स में बताना ना भूलिये कि आप क्या सोचते है इस बारे में 


अनु गुप्ता

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0