सीख जाओ सहना

सीख जाओ सहना

"सीख जाओ सहना ज़िंदगी नहीं रुकने वाली" 
ज़िंदगी इम्तिहान लेने से बाज़ नहीं आएगी, हमें आदत ड़ालनी होगी हर परिस्थिति में खुद को संभालने की। 
आज महामारी इतनी फ़ैली है की हर कुछ घंटे बाद किसी न किसीकी मौत की खबर सुनकर हर कोई अवसाद की गर्ता में जा गिरा है। ज़ाहिर सी बात है भले कोई अपना ना हो फिर भी किसीकी मौत की ख़बर सुनकर मन आहत जरूर हो जाता है। और ज़्यादा भावुक लोगों के दिमाग पर इन सारी चीज़ों की असर उसे डिप्रेशन का शिकार बना देती है।
पर सबको एक बात समझनी चाहिए कि किसीके भी चले जाने से ज़िंदगी रुकती नहीं। पीछे जो रह गए है उसे जीना पड़ता है। हमारे हाथ में कुछ भी नहीं ईश्वर इच्छा बलवान है, तो जहाँ हम लाचार है वहाँ ज़्यादा नकारात्मता को पाल कर दिमाग को उलझाने की बजाय सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ना चाहिए। सोशल मीडिया पर कोरोना और मौत के आंकड़ों वाली पोस्ट को ज्यादा मत देखो, टीवी पर एक ही समाचार बार-बार मत देखो, हर कोई मिलने वाले से या फोन पर एक कोरोना और मौत पर ही चर्चा मत करो। मरने वाले तो मोक्ष पा लेंगे पीछे जो रह जाते है वो अधमरे हो जाते है। 
घर में हंसी खुशी का माहौल बनाए रखो टीवी पर कोमेड़ी शो और हल्की फुल्की फिल्में देखो, बहुत सारी वेब सिरीज बन रही है उसे देखो और आनंद उठाओ, बच्चों के साथ सारे घरवाले मिलकर गेम्स खेलो ये जो समय आया है वो भी चला जाएगा। ईश्वर से प्रार्थना करो अपना भी भला चाहो और विश्व शांति कि कामना करो। चिंता, अवसाद और अकेलेपन की असर पूरे शरीर की सिस्टम खराब कर देगी, कोरोना तो दूर उल्टा दूसरे प्रोब्लम खड़े होंगे। सुविचारित सोच पूरे परिवार को जीवंत रखेगी। माना की समय खराब है पर क्या हमारे चिंता करने से बदल जाएगा नहीं ना? तो जो हमारे बस में नहीं उसके लिए इतनी जद्दोजहद करके दिमाग को डिप्रेशन की ओर क्यूँ  धकेलना। 
मन को शांत रखो, थोड़ा व्यायाम और मेडिटेशन आपको सच में स्फूर्ति से भर देगा। सिर्फ़ पंद्रह मिनट ॐ का उच्चारण पूरे शरीर में उर्जा का संचार भर देगा। लड़ायक मिजाज़ रखो, हर परिस्थिति में हारना नहीं चुनौतियों को हराना है ये बात मन में दोहराते रहो। अगर आपका कोई स्वजन बिमार है तो उनके स्वास्थ्य की कामना करो, अंतर्मन से गदगदित होकर ईश्वर से प्रार्थना करो भले आँसू निकल आए भीख मांगो, वो बाप है बाप से दिल खोलकर मांगने में शर्म कैसी। उसे देना पड़ेगा और वो देता है। तो समय को हिम्मत और हौसलों से संभालो और हंसी खुशी सिर्फ़ अपना कर्तव्य निभाओ। परिवर्तन संसार का नियम है, बुरा समय भी खुशियों में परिवर्तित होगा। 
(भावना ठाकर, बेंगुलूरु)#भावु

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0