साइज देखा हैअपना

साइज देखा हैअपना

" मुझे शादी नहीं करनी कह दिया ना ।"मोना ने बैग उठाया और बाहर निकल गई।
" तुझ से शादी करेगा भी कौन ?खुद को देखा है कभी आईने में ठीक से।साइज देखी है अपनी। अभी से इतनी मोटी है। शादी के बाद तो ऐसे भी लड़कियाँ फैल जाती है ।तू तो फैल  के गुब्बारा हो जाएगी। इसलिए फोटो देखते ही लड़के वाले भाग जाते हैं ।खुद मर गई तेरी माँ और तुझे छोड़ दिया मेरी जान खाने के लिए।" सुमित्रा बोले जा रही थी।
" माँ!दीदी  जा चुकी ।किस से बोल रही?" मुन्ना बोल पड़ा।
" जाने दे! ऐसे भी कौन सी राजकुमारी है कि उसकी सेवा करूँगी ।पता नहीं कब शादी होगी? और हमारी जान छूटेगी।" मोना बाहर बगीचे में बने एक पेड़ के नीचे बैठी अपनी किस्मत को रो रही थी और खुद को कोसे जा रही थी।
" किससे कहूँ ?खुद से या ईश्वरसे। तुमने सब कुछ दिया पर मोटा बना दिया। शायद पतली होती तो माँ मुझे प्यार करती। घर का सारा काम करती हूँ। मुन्ना को पढ़ाती हूँ, ट्यूशन  पढ़ा कर अपना खर्च भी निकालती हूँ। पापा पर कभी बोझ नहीं बनी।फिर भी माँ मुझसे कभी खुश नहीं रहती। सौतेली हूँ ना इसलिए।" मोना रोए जा रही थी ।
तभी लगा जैसे किसी ने उसके सिर पर हाथ फेरा हो ।
"पिताजी !आप ..।"
"बेटी !...।"
"कुछ नहीं पिताजी! आँखों में कुछ चला गया था।"
" मुझसे छिपा रही ।मैं सब जानता हूँ। तुझे कोई कुछ नहीं कहता ।बस तेरे माँ  के सिवा ।तू कभी खुद को मोटा समझ हीन मत माना कर। तू किसी से कम नहीं। सबके लिए भगवान ने किसी को बनाया है। तेरे लिए भी बनाया है ।और शादी जरूरी नहीं। अपने पैरों पर खड़े होना जरूरी है। और  तू तो इतनी होशियार है। तू एम.ए करना चाहती थी ना ।मैं कराऊँगा।" मोना की आँखें चमक उठी।
" सच पिताजी!"
" हाँ! तू किसी से कमजोर नहीं ।"
:मैंने कभी खुद को कमजोर नहीं माना पिताजी। मोटी हूँ  तो क्या?ईश्वर ने जैसा बनाया है मैं वैसी ही हूँ और मुझे मंजूर है। बस माँ  की बातों से तकलीफ होती है। जिसे पसंद करना हो मुझे  करे वर्ना मत करें।"
" यह हुई ना बात ।"मोना पिता के गले लग पड़ी ।

मेरी कहानी पसंद आई तो मुझे लाइक और मुझे फालो करें।

डाॅ मधु कश्यप 

#NoMoreBodyShaming

What's Your Reaction?

like
2
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1