स्पेसक्राफ्ट को मिला अंतरिक्ष परी का नाम

स्पेसक्राफ्ट को मिला अंतरिक्ष परी का नाम

हरियाणा के करनाल में जन्मी कल्पना चावला को कौन नहीं जानता? देश की पहली महिला जिसने अंतरिक्ष में जाने का ख्वाब सजाया और जिया।
अंतरिक्ष में सफलता के झंडे गाड़ने वाली भारत की बेटी कल्पना चावला आज भले ही दुनिया में नहीं हैं, लेकिन विज्ञान को दिए गए उनके योगदान के देखते हुए दुनिया आज भी उन्हें सलाम करती है।
इसी कड़ी में नॉर्थरोप ग्रुमैन एयरोस्पेस कंपनी ने अपने री-सप्लाई एयरक्राफ्ट का नाम कल्पना चावला के नाम पर रखा है.सिग्नस स्पेसक्राफ्ट के निर्माता नॉर्थरोप ग्रूममैन ने एक ट्वीट में घोषणा की, 'आज हम कल्पना चावला का सम्मान करते हैं, जिन्होंने नासा में भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री के रूप में इतिहास बनाया है। आगे कहा 'मानव अंतरिक्ष यान में उनके योगदान का स्थायी प्रभाव पड़ा है मिलिए हमारे अगले Cygnus यान, S.S. कल्पना चावला से
'नॉर्थरोप ग्रूममैन ने कहा, 'यह कंपनी की परंपरा है कि प्रत्येक सिग्नस का नाम एक ऐसे शख्स के नाम पर रखा जाए जिसने मानव अंतरिक्ष यान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। कल्पना चावला को अंतरिक्ष में जाने वाली भारतीय मूल की पहली महिला के रूप में इतिहास में उनके अहम स्थान के सम्मान में चुना गया था।'
वे  16 जनवरी, 2003 को अमेरिकी अंतिरक्ष यान कोलंबिया के चालक दल के रूप में अंतरिक्ष में जाने वाली भारत की पहली महिला बनी थीं। 01 फरवरी 2003 को अंतिरक्ष में 16 दिनों का सफर पूरा करने के बाद वापसी के दौरान पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करते समय और निर्धारित लैंडिंग से सिर्फ 16 मिनट पहले साउथ अमेरिका में अंतिरक्ष यान कोलंबिया दुर्घटननाग्रस्त हो गया और यान कई टुकडों में बंटकर नष्ट हो गया।
उन्हें आकाश से इतना प्यार था कि वह बचपन से ही हवाई जहाज के चित्र बनाती थी। 20 साल की उम्र में वह अमेरिका चली गईं और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर नासा में काम करना शुरू कर दिया। उन्हें पहली बार 19 नवंबर 1997 को अंतरिक्ष में जाने का मौका मिला। उनके काम से खुश होकर नासा ने उन्हें फिर 16 जनवरी 2003 को अंतरिक्ष में भेजा।
करनाल की बेटी कल्पना चावला ने अंतरिक्ष के गहन अँधेरे में भारत का नाम रोशन किया.
उन्होंने 376 घंटे 34 मिनट अंतरिक्ष में बिताए. कई महत्वपूर्ण प्रयोगों को अंजाम देते हुए कल्पना ने तब धरती के 252 चक्कर लगाए यानि 65 लाख मील की दूरी तय की थी ।
ये अंतरिक्ष यान इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में छोड़ा जाएगा। 

अनु गुप्ता

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0