त्योहारी मायके से ही क्यूँ?

त्योहारी मायके से ही क्यूँ?

शादी में हर संभव प्रयास रहता है लड़की के घरवालों का कि कोई कमी रह जाये ...दहेज तो आज कल मुँह से माँगते नहीं हैं लोग पर ऐसे ज़रूर कहेंगे....जो भी देंगे आप अपनी बेटी के लिए ही देंगे हमें तो कुछ नहीं चाहिये।बहुत अच्छा तरीक़ा हो गया है लोगों का।दहेज के लिए तो क़ानून बन गए हैं पर फिर भी आग बुझी नहीं है ऐसा ही प्रतीत होता है। खैर बात पर सीधे आती हूँ ...

शादी के बाद होने वाले साल के त्योहार पर लड़की के घर से आने वाली त्योहारी।मुझे समझ नहीं आता ये कौन से रिवाज बनाये हैं इस समाज ने।शादी में इतना खर्चा फिर ऊपर से हर महीने आने वाले त्यौहारों पर लड़की के घर से लड़के के घर -बेटी के ससुराल में सबके लिये कपड़े,फल,मिठाई,शगुन आदि..क्या सच में ये सब ज़रूरी है।अगर ज़रूरी है तो क्यूँ ...क्या लड़की के ससुराल में कोई कमाने खानेवाले नहीं हैं ...या इसके पीछे मुझे तो कोई भी वैज्ञानिक तर्क भी नजर नहीं आता।

लड़की का मायका चाहें किसी भी या कैसी भी परेशानियों से गुजर रहा हो इस से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता लड़की के ससुराल वालों पर...कुछ भी हो जाये...पर नहीं त्योहारी तो आनी ही है..।चलो त्यौहारी भी जाए ..लड़की के मायके वाले अपनी तरफ़ से हर तरह से अच्छे से अच्छा लेके जाने का प्रयास करते हैं ऐसा देखा है मैंने ...पर ससुराल वालों का मुँह हमेशा बना हुआ ही पायेंगे आप ...हमारे यहाँ कौन पहनता है ऐसे कपड़े,ये मिठाई में देखो कैसी अजीब सी रही है...ये बातें होते देखा है मैंने ज़्यादातर लोगों के यहाँ...चाहें बाद में वो कपड़े पहन लिए जायें या मिठाई एक ही दिन में ख़त्म हो जाये पर नहीं सुनाना तो है ....फलाने की बहु के घर से ये आया इतना सुंदर इतना अच्छा आया .....क्या है ये...

समाज ने ये परम्परा अगर बनायी तो शायद आपस में रिश्ते बने रहें और हर त्यौहार पर आपस में मिल भी लिया जाये इसलिए बने होंगेपर..ये सिर्फ़ लड़की वालों को ही हमेशा देने का रिवाज सा बन गया है जो मुझे बिलकुल भी नहीं भाता है...अगर रिश्ता बनाना ही है तो दोनों तरफ़ से लेन देन होना चाहिए आप दोनों ही एक दूसरे के रिश्तेदार हैं..अपनी लेखनी को यहीं पर विराम देना चाहूँगी ..

आप सभी को क्या लगता है ये त्यौहारी वाला रिवाज का अंत होना चाहिये या रूप बदल दोनों तरफ़ से लेन देन होना चाहिए ...अपनी राय ज़रूर बताएँ...धन्यवाद

#परम्परा

स्वरचित एवं मौलिक

दीप्ति

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0