उस त्याग में सुकून था

जब मैं 2.5महीने की प्रेग्नेंट थी तब मुझे फ़ूड पोइज़न हो गयी। डॉक्टर ने पूरी प्रेग्नेंसी बहार का खाना मना कर दिया.. मैं बचपन से चटोरी थी। इन दिनों तो वैसे ही चटपटा तीखा खट्टा

उस त्याग में सुकून था

जब मैं 2.5महीने की प्रेग्नेंट थी तब मुझे फ़ूड पोइज़न हो गयी। डॉक्टर ने पूरी प्रेग्नेंसी बहार का खाना मना कर दिया..

मैं बचपन से चटोरी थी। इन दिनों तो वैसे ही चटपटा तीखा खट्टा खाने का दिल करता है..

एक दिन मेरे पति कहने लगे चलो घूम के आते है मैं भी खुश होगी अब घूमना किसे पसन्द नही।

बहार निकली तो कभी चाट का ठेला दिखे, तो कभी डोमिनोज ,तो कभी के एफ सी, सबके बारी बारी से स्वाद मेरे जुबान पे आने लगे.. लेकिन जब ख्याल अपने बच्चे का आया तो ये सब कुछ मायने नहीं रखते।उस समय लगा मां के सफ़र की जैसे पहली सीढ़ी चढ़ ली।

मेरे पति ने "सी सी डी "के सामने कार रोकी ।

"यहां क्यों रोकी'..,मैंने पूछा..

"चलो तो अंदर'.., इन्होंने कहा..

"डॉक्टर ने मना किया है बहार का खाना फिर यहां क्यों लाये बेकार में"..मैंने उदास होके बोला..

"डिअर ..खाने को मना किया है कॉफी पीने को नही।चिंता मत करो मैंने पूछ लिया था डॉक्टर से तभी लेके आया हूँ.. पति बोले...

"फिर दो केपिचिनो कॉफ़ी आर्डर कर दी.. अरे तुमने अपना मनपसंद सैंडविच नही ऑडर किया तुम जब भी आते हो वो ज़रूर लेते हो.. अरे मैं नही खा सकती तो क्या तुम तो खा लो".. मैंने बोला...

"मां सिर्फ तुम अकेले नही बन रही मैं भी पापा बन रहा हूं इसलिए मैं भी बहार की चीज़ नहीं खाऊंगा जब तक तुम नही खाओगी समझी"... पति बोले...

पर...

'पर वर कुछ नहीं ये दौर तुम्हारे लिए आसान नही है जानता हूँ मैं .. तुम्हारी तकलीफ कम नही कर सकता पर साथ देके तुम्हारा हौसला तो बन सकता हूं।'पति बोले...

वो मां बाप के रूप में हमारा पहला त्याग था अपने बच्चे के लिए.. पर उस त्याग में भी एक सुकून था..

#MyFirstPregnancy
#ThePinkComrade

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1