महिलाएँ कैसे कर सकती हैं स्वयं की सुरक्षा...

महिलाएँ कैसे कर सकती हैं स्वयं की सुरक्षा...

अक्सर हम लड़कियों के साथ होने वाले अनहोनी वारदातों के बारे में पढ़ते-सुनते आए हैं । जब भी हम किसी ऐसी घटना के बारे में पढ़ते हैं तो हम दुखी हो जाते हैं और सोचने लग जाते हैं कि काश ऐसा न होता या ऐसा क्यों हुआ ….. 

अखबारों में नित नई खबरें पढ़कर ऐसा लगता है कि आज के समय में लड़कियाँ घर के बाहर अकेली सुरक्षित नहीं है परंतु यह भी नहीं हो सकता कि किसी भी लड़की के साथ हर समय उसकी सुरक्षा के लिए उसका भाई या उसके परिवार जन हों । ऐसे में आवश्यक है कि लड़कियों को अपनी सुरक्षा खुद करनी आनी चाहिए , वे अपनी सुरक्षा खुद कर सकें । उन्हें उन सब जरूरी बातों का पता होना चाहिए जिससे कि वह अपनी रक्षा कर सकें । 

चलिए आज जानते हैं कुछ ऐसे खास सुरक्षा टिप्स जो कि लड़कियाँ अपनी सुरक्षा में अपना सकती हैं -

हमेशा अपना मोबाइल अपने पास रखें -

जब कभी भी कोई लड़की, चाहे वह घर से बाहर है या 

घर में अकेली है …. दोनों ही स्थितियों में लड़कियों को अपना मोबाइल अपने पास रखना चाहिए और उसमें अपने परिवार जनों के नंबर सबसे ऊपर रखने चाहिए, जिससे कि किसी भी बुरी वारदात घटने से पहले उन्हें फोन किया जा सके।

रात में यदि लेट हो गई है तो सचेत होकर चलें-

आजकल काम के सिलसिले में देर रात तक भी लड़कियाँ बाहर रहती हैं । ऐसी स्थिति में यदि लड़कियाँ अपनी गाड़ी में है, तो वह किसी अनजान के लिए गाड़ी ना रोके । यदि ऑटो से जाना है त़ो खाली ऑटो रिक्शा ना ले , किसी भी अनजान व्यक्ति से लिफ्ट ना लें । यदि आप काम के सिलसिले में काफी लेट हो गई है तो अगर हो सके, अपने घर से किसी को आपको लेने के लिए बुला लें । ऐसा नहीं है कि आज लड़कियाँ अपनी आत्मसुरक्षा नहीं कर सकती परंतु सावधानी बरतने में कोई हर्ज नहीं है , क्योंकि हमेशा कहा भी जाता है कि सावधानी हटी , दुर्घटना घटी ।

आत्मरक्षा (बचाव)सामग्री हमेशा अपने पर्स में रखें - 

लड़कियों को हमेशा अपने साथ कुछ नुकुली चीजें जरूर रखनी चाहिए जैसे धारदार चाकू, फॉर्क, चिली सप्रे, जूड़ा पिन, सेफ्टी पिन इत्यादि । किसी भी बुरी घटना का अंदेशा होने पर इन हथियारों का प्रयोग किया जा सकता है।

सबसे पहला वार नाजुक अंगों पर -

अगर दुर्भाग्यवश कभी आपके सामने ऐसी कोई स्थिति आ जाए कि आप किसी गलत चंगुल में फँस गए हैं तो अपने आप को बचाते हुए सबसे पहले आप उस व्यक्ति के नाजुक अंगों पर वार करें जिससे उसकी शक्ति क्षीण हो जाएगी और वह आप पर आसानी से हमला नहीं कर पाएगा और आपको वहाँ से भागने का अवसर भी मिल जाएगा ।

कभी भी हमलावर को ना भड़काएँ -

कई बार हमें खुद पर कुछ ज्यादा ही विश्वास होता है। ऐसी स्थिति में यदि हमारे साथ कोई छेड़खानी करता है तो हम उसे पलट कर जवाब देते हैं या जल्दी से ही उसके साथ बोलने-डाँटने लग जाते हैं , परंतु याद रखें कि उस समय आप अकेली होती हैं तो इसलिए हमलावर को भड़काने के बजाय वहाँ से चुपचाप निकल जाना ही बेहतर है ।

साथ ही देर रात गाड़ी को पार्किंग से उठाते हुए भी आप अकेली ना जाएँ बल्कि गार्ड को अपने साथ ले लें । ऐसी जगहों पर भी बुरी घटनाएँ घटने का अधिक खतरा बना रहता है । 

ऐसे तो आज औरतों की स्थिति समाज में पहले से कहीं बेहतर हो रही है परंतु अभी भी कुछ लोगों की सोच ऐसी है कि वह औरत को देखते ही उसका कोई भी, किसी भी तरह का फायदा उठाने से नहीं हिचकते । ऐसी स्थिति में यदि औरतें आत्म सुरक्षा करना जान जाती हैं तो उन्हें किसी की भी सहारे की जरूरत नहीं होगी , वे कभी निस्सहाय नहीं होंगी ।

उम्मीद करती हूँ कि आपको यह लेख पसंद आया होगा । आपके सुझावों का स्वागत है ।

धन्यवाद 

मधु धीमान

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0