चुनौतियों के बीच सबक सिखाता वर्ष 2020

चुनौतियों के बीच सबक सिखाता वर्ष 2020

वर्ष 2020 में घटित कई घटनाओं के कारण यह एक ऐतिहासिक वर्ष कहलाएगा। वैश्विक महामारी के साथ शुरू हुआ यह वर्ष पूरे साल भर कई चुनौतियों को लेकर हमारे सम्मुख खड़ा रहा। बाल से 9 गुना छोटे वायरस ने 2020 को अपने चुंगल में ऐसा फंसा कि संपूर्ण विश्व कोरोनावायरस के सामने धराशाई हो गया।

इस वर्ष पूरे विश्व में कई लाखों मौतें हुई कई घरों के चिराग बुझे, कईयों ने अपनी नौकरी से हाथ धोए एक ओर वैश्विक महामारी तो दूसरी ओर बढ़ती हुई महंगाई ने इस वर्ष को एक चुनौती पूर्वक वर्ष बना दिया।

मानव सभ्यता ने भी इस चुनौती को खुले दिल से अपनाया, अपनों के बिछड़ने के बाद भी संयम से काम लेते हुए अपने परिवार को संभाला, अपनी दैनिक दिनचर्या में कई सकारात्मक परिवर्तन किए ताकि घर परिवार सुरक्षित रहे।

यह वर्ष एक शिक्षक के रूप में हमारे सामने आया जिसने हमारी कई गलतियों को उजागर किया, लंबे लॉकडाउन ने मनुष्य को    घर रूपी पिंजरे में बंद कर दिया, ताकि हमारे द्वार  बिगड़े इकोसिस्टम को हम भलीभांति समझ सके। और कई हद तक हम लोग इसे समझे भी।

वर्ष 2020 बिगड़े हुए कई रिश्तो को सुधारा भी, एक ही छत में कई महीने एक साथ रहने से परिवारिक माहौल में सहभागिता, प्रेम का प्रचार-प्रसार भी हुआ  , हम लोगों ने अपने छुपे हुनर को लॉकडाउन के दौरान संवारा  निखारा, कई  छुपी हुई प्रतिभा सोशल मीडिया के द्वारा दुनिया के सामने भी आई, जो हम दौड़ती भागती जिंदगी में कहीं छोड़ चले थे।

रसोई जो महिलाओं का कार्यक्षेत्र समझी जाती है वर्ष2020 ने उसमें भी फेरबदल किया, कई पुरुष जिन्हें ढंग से कलछी पकड़ने नहीं आती थी वह भी मास्टर शेफ बन गए।

वैश्विक महामारी ने हमारे जीवन शैली में कई अच्छी परिवर्तन भी किए लोग अब अच्छा खाना और अच्छा स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देने लगे ताकि वह स्वस्थ रहें और अपने इम्यून पावर को बनाए रखें, व्यक्तिगत साफ-सफाई को लोगों ने अपने खून में उतार लिया जिससे घर परिवार स्वस्थ व संपन्न रहें।

2020 वर्ष में लोगों को समझदारी से खर्च करना भी सिखाया, प्राथमिकता के हिसाब से पैसा खर्च व बचाना लोगों ने अपनी जिंदगी की महत्वपूर्ण मकसद बना लिया।

वर्ष2020 की चुनौती ने मानव जीवन को एक दार्शनिक सोच दी है, हम इन चुनौतियों से बहुत कुछ सीखा है कैसे हम अपने जटिलजीवन को सरल  बना कर सुख में समय व्यतीत करें साथ ही अपने प्राकृतिक वातावरण के प्रति जागृति भी मानव समाज के भीतर प्रज्वलित हुई है, कई चुनौतियां के बीच सीख सिखाता हुआ यह वर्ष अपने अंतिम पड़ाव में है आशा करते हैं कि यह वर्ष जाते-जाते कोविड-19 वैक्सीन का तोहफा हम सबको देकर जाए। नई उम्मीद के साथ पत्र समाप्त करती हूं।
 
 धन्यवाद।
 #शुक्रिया2020
 

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0