आपकी आँखें अनमोल हैं, इनका ध्यान रखिए!

आपकी आँखें अनमोल हैं, इनका ध्यान रखिए!

आज के इस तकनीकी युग में आँखों से लिया जाने वाला कार्य अत्यधिक बढ़ गया है। ऑफिस में अधिकांश कार्य कम्प्यूटर, लैपटॉप पर ही किए जाते हैं, पर बात इतने पर ही समाप्त नहीं होती बाकी के समय में हम में से अधिकतर लोग हाथों में मोबाइल थामे बैठे रहते हैं। किसी नशे की तरह ही इसकी लत सारी दुनिया को लग गई है। यहाँ तक कि छोटे बच्चे भी इससे अछूते नहीं हैं। कोविड जैसी महामारी के चलते तो इसमें और भी तेजी से इज़ाफ़ा हो गया क्योंकि इस दौरान बच्चे विद्यालय जाना ही भूल चुके हैं। सब कुछ ऑनलाइन चल रहा है। यह सत्य है कि तकनीकी ज्ञान बढ़ने से हर क्षेत्र में कहीं न कहीं लाभ भी हुआ है परंतु मनुष्य की सम्पूर्ण सेहत के लिए यह हानिकारक ही सिद्ध हुआ है।

परंतु आज हम बात कर रहे हैं हमारी आँखों की, जो कम्प्यूटर के सामने झपकना भी भूलने लगी हैं। आँखों पर अत्यधिक जोर पड़ने से उनमें दर्द, आँखों से पानी आना, सिरदर्द होना, सूखी आँखें जिन्हें सामान्य भाषा में ड्राई आई कह कर पहचानते हैं, जैसे लक्षण तो होते ही हैं, साथ ही आँखों की रोशनी भी कम हो जाती है।


यह युग ही ऐसा है जहाँ इन सब गैजेट्स के बिना गुजारा भी नहीं। परंतु हमें इनके प्रयोग पर यथासंभव लगाम लगाने की आवश्यकता तो है। जब तक आवश्यक है तब तक ठीक, परंतु उसके अलावा हम सबसे पहले आत्मनियंत्रण सीखें उसके बाद परिवार को इसके लिए प्रेरित करें।


साथ ही जो हम अपनी आँखों के स्वास्थ्य के लिए कर सकते हैं वह अवश्य करें।


खानपान-

हम अपने खानपान में उन चीजों का समावेश करें जो हमारी आँखों के लिए अच्छे माने जाते हैं। विटामिन ए आँखों के लिए बहुत अच्छा है अतः ऐसे फल व सब्जियाँ जिनमें न केवल विटामिन ए प्रचुर मात्रा में हो बल्कि और भी कई विटामिन्स, मिनरल्स व अन्य पोषक तत्वों का समावेश हो, हमें अपने परिवार के भोजन में शामिल करना चाहिए।


पपीता, आम, खुबानी संतरा जैसे फल, गाजर, चुकंदर, कद्दू ब्रोकली, हरी पत्तेदार व रंगीन सब्जियाँ भोजन में सम्मिलित करें। आपके भोजन में जितने रंग होंगे स्वास्थ्य के लिए उतने ही अच्छे माने जाते हैं। परंतु ये रंग प्राकृतिक ही होने चाहिए। कृत्रिम तरीक़े से रंगी हुई सब्जियों व फल व अन्य भोज्यपदार्थों से लाभ के स्थान पर हानि ही होती है।


भीगे हुए छिलका उतारे बादाम न केवल आँखों के लिए बल्कि दिमाग के लिए भी बहुत अच्छे हैं। इसके अलावा भीगी किशमिश व अंजीर का सेवन करें। अखरोट, सूखा व ताजा नारियल, खरबूजे तरबूज, कद्दू व सूरजमुखी के बीजों का सेवन करें।

माँसाहारी लोग आँखों को स्वस्थ रखने के लिए अण्डे व मछली खा सकते हैं।


इसके अतिरिक्त आँखों को आराम पहुँचाने वाले कुछ व्यायाम भी आपकी दिनचर्चा का हिस्सा होने चाहिए।

आँखों की पुतलियों को दाँए से बाँए व ऊपर से नीचे घुमाइए।

पुतलियों को गोल गोल क्लॉकवाइज व एंटीक्लॉकवाइज घुमाइए। थकी हुई आँखों पर हथेलियों से कपिंग कीजिए।

हर थोड़ी देर बाद स्क्रीन से नजर हटा कर इधर उधर देखें व आँखों को विश्राम दें।


अर्चना सक्सेना

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0