आत्मबोध

आत्मबोध


क्या पाने आया था,
क्या मैने पाया।
मोह माया में फंसकर,
धूमिल हो गई मेरी छाया।

अपनों संग मैं यूं बंधा,
स्वयं को मैने खो दिया।
प्रेम प्यार में रहना चाहा ,
ईर्ष्या से भी दूर न रह पाया।

स्वयं को जानने को ,
मुक्त होना चाहता हूं।
त्याग कर सब भावनाएं,
उन्मुक्त उड़ना चाहता हूं।

सुख दुख,हार जीत,
द्वेष ईर्ष्या तज चला।
प्रेम तुझे भी छोड़ अब ,
मोक्ष पथ पर मैं चला।

रूचि श्रीवास्तव
स्वरचित                                                                                                                                                                                                      

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0