अभी तू नहीं समझेगी

 अभी तू नहीं समझेगी

"देखो ना मम्मी शादी के बाद भैया कितने बदल गए हैं। पहले जब मैं आती थी, कैसे चहकने लगते थे और घंटों बैठ मेरे साथ बातचीत करते थे और अब थोड़ी ही देर में उठकर अपने कमरे में चले जाते हैं!"  प्राची गुस्से में बोली।प्रियंका अपनी ननद की बात सुन हंसने लगी।

  "भाभी आपको हंसी आ रही है। शायद आपके भैया ने आपके साथ ऐसा बिहेव ना किया हो!"

"प्राची हंसी मुझे इस बात पर आई कि आज तुम भी वही बात कह रही हो, जो 2 साल पहले, मैं अपनी मम्मी से कहती थी।तब वह मुझे समझाती 'बेटा वह बदला नहीं है, बस थोड़ी जिम्मेदारी बढ़ गई हैं। पहले बस तू थी लेकिन अब उसे थोड़ा समय तेरी भाभी के लिए भी तो निकालना पड़ता है। समझाकर!' तब मैं भी तुम्हारी तरह नाराज हो जाती। तब मम्मी कहती 'अभी तू नहीं समझेगी। तेरी शादी हो जाने दे। फिर तुझे समझ आएगी!'

"बहु तुम्हारी मम्मी ने ठीक कहा था। बड़े होते होते, जिम्मेदारियों के साथ-साथ भूमिका भी बदल जाती है। शादी से पहले जो बेटा व भाई हुआ करता था । शादी के बाद उसे पति व पिता की जिम्मेदारी भी निभानी पड़ती है। लेकिन हम मां व बहने यह नहीं समझ पाती और सोचने लगती है कि हमारा भाई या बेटा अब हमारी फिक्र नहीं करता , हमसे प्यार नहीं करता। लेकिन ऐसा होता नहीं है। उसे हम सब की फिक्र होती है और उसके प्यार में कहीं कमी नहीं आती। हां, वह प्यार अब दो की जगह कईयों में बंट जाता है। अगर हम इस बात को समझ ले तो रिश्तो में मधुरता बनी रहती है। वरना अक्सर देखने में आया है कि शादी के बाद ऐसी अनर्थक बातें रिश्तो में दरार ला देती है। समझी, मेरी पगली प्राची!

या मैं भी अपनी समधन की तरह तुझसे कहूं कि तेरी शादी हो जाने दे, फिर तू समझेगी!"

प्राची की मम्मी, उसकी ओर देख एक शरारती मुस्कान के साथ बोली।

अपनी मम्मी की मुस्कान का आशय समझ, प्राची शर्मा गई। उसे शर्माते देख सबकी हंसी छूट गई।
सरोज ✍️

#यादों की गर्माहट

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0