अंडमान ,भारत की शान

अंडमान ,भारत की शान

एक ज्योग्राफी स्टूडेंट होने के कारण मैंने अपनी कॉलेज लाइफ में काफी एजुकेशन ट्रिप किए ,उनका अपना ही मज़ा था, अपने दोस्तों ,प्रोफेसर के साथ घर से दूर इन यात्राओं का भरपूर आनंद लिया ,एक अनुशासन और कॉलेज की जिम्मेदारी के कारण एक परिसीमा में रहकर यात्राएं की।

मेरी सबसे रोमांचक यात्रा जो मैं आज तक नहीं भूल पाई हूं, वह है मेरी शादी के बाद की गई यात्रा। मेरे पति ने मुझे शादी के बाद एक दिन अचानक एयर टिकट ला कर दिए जैसे ही मैंने वो टिकट देखें मेरी खुशी का ठिकाना ना रहा वह अंडमान के टिकट थे अंडमान जाने की मेरी तीव्र इच्छा तबसे रही जब मेरी ज्योग्राफी टीचर अंडमान के बारे में पढ़ा रही थी,मैंने उसी दिन सोच लिया था कि मैं लाइफ में एक बार अंडमान जरूर जाऊंगी इस बात का जिक्र शायद मैंने कभी अपने पति से किया होगा। उन्होंने मेरा यह सपना मुझे हनीमून ट्रिप देकर पूरा किया।

हम दोनों ने अपनी तैयारी कर दिल्ली से पोर्ट ब्लेयर (वीर सावरकर एयरपोर्ट) की  जेट एयरवेज की फ्लाइट ली, हमारी फ्लाइट कुछ देर के लिए कोलकाता में रुकी, और जब फ्लाइट बंगाल की खाड़ी के ऊपर से उड़ रही थी चारों तरफ नीला नीला पानी और ऊपर बादलों के बीच में हमारी फ्लाइट ,सच में यात्रा की शुरुआत से ही दिल में एक रोमांच उत्पन्न हो रहा था

3-4 घंटे में हम  पोर्ट ब्लेयर के वीर सावरकर एयरपोर्ट पर उतरे ,वहां पहले से हमारी टैक्सी ड्राइवर हमारा वेट कर रहा था जो सीधे हमें हमारे होटल ले गया कुछ देर वहां पर हमने आराम किया, होटल के गाइड के अनुसार शाम को मैं और मेरे पति गांधी पार्क जो मुख्य पर्यटक स्थल में से एक है वह देखने निकल पड़े समुद्र के किनारे बने गांधी पार्क में समुंद्र की लहरों के साथ खंभों की लाइटों से जगमगाता हुआ पार्क का नजारा अद्भुत था।

कब शाम से रात हो गई पता ही नहीं चला, मन में लहरों की उमंग लिए हम दोनों अबरदीन मार्केट गए, जो पोर्ट ब्लेयर की टी शर्ट्स , पर्ल ज्वेलरी, सीप से बनी सजावटी सामान, नारियल से बनी चूड़ियां , लैंपशेड , आदिवासियों के स्टैचू आदि से  पटा पड़ा था, शॉपिंग करने के बाद , स्वादिष्ट सीफूड का ज़ायका लेने के बाद वापस होटल रूम में आ गए। अगले दिन ब्रेकफास्ट के बाद हम पोर्ट ब्लेयर के साइट सीन देखने निकल पड़े। मानव विज्ञान संग्रहालय--यह म्यूजियम आदिवासी जीवन को साक्षात् जीवित कर रहा था, ओंगे, जरवा, महा अंडमानी,  निग्रेटो आदिवासियों की पूरी दिनचर्या को बड़ी खूबी से प्रस्तुत करता है।उनके द्वारा प्रयोग में लाए जाने वाले बर्तन , औजार, गहने आदि का सुंदर संग्रह देखने को मिला, इस म्यूजियम में हमें आदिवासियों को बहुत करीब से जानने का मौका मिला।

समुंद्रिका मरीन म्यूजियम में हमने आईलैंड के आटिफैक्ट्स देखें जबकि फिशरीज म्यूजियम में समंदर के नीचे पाए जाने वाले जीव जंतुओं की ढेरों प्रजातियां देखने को मिली। एक ज्योग्राफी स्टूडेंट होने के कारण मेरी उत्सुकता और रोमांच अपनी यात्रा के साथ साथ बढ़ता जा रहा था।यहां पाई जाने वाली उष्णकटिबंधीय वनस्पति जिनके बारे में किताबों में पढ़ा था उन्हें अपनी आंखों से देख रही थी।

काला पानी यानी कि सेल्यूलर जेल अंडमान की यात्रा का सबसे बड़ा आकर्षण व महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह 3 मंजिल इमारत जिसमें 698 कारावास है जो एक दूसरे से स्टार फिश के आकार में जुड़े हैं। सेल्यूलर जेल तीन तरफ से समंदर से  घिरा है यहां से कोई भी कैदी भागने की कोशिश नहीं कर सकता था पूरा जीवन एक छोटे से कारावास में काटना पड़ता था कारावास की दीवारें आज भी अंग्रेजों द्वारा की जाने वाली बर्बरता की गवाह  है।

वीर सावरकर व अन्य क्रांतिकारियों को दी जाने वाली फांसी की सजा वाले कक्ष को देखकर हमारे रोंगटे खड़े हो गए। शाम को सेल्यूलर जेल के परिसर में स्वतंत्रता सेनानियों के ऐतिहासिक कार्यो की झलक लाइट व साउंड शो के द्वारा प्रस्तुत की जाती है जो सेनानियों को मंत्र मुक्त कर देती है। सेल्यूलर जेल में स्थित नेताजी गैलरी सुभाष चंद्र बोस के जीवन पूरा साहित्य उपलब्ध है। संग्रहालय में काला पानी की सजा काटने वाले क्रांतिकारियों के जीवन से संबंधित साहित्य ,फोटो आदि सुरक्षित रखी गई हैं। सेल्यूलर जेल में वीर सावरकर सेल मुख्य आकर्षण का केंद्र है। सेल्यूलर जेल की छत पर जाकर आप देखेंगे दूर-दूर तक समंदर के अलावा कुछ दिखाई नहीं देता है।

पोर्ट ब्लेयर से कुछ घंटे की यात्रा कर हम शाम को विश्व प्रसिद्ध बर्ड वाचिंग बीच जिसे चिड़िया टापू कहते हैं । देखने निकल पड़े। यहां ढेर सारे पक्षी देखने को मिलते हैं स्थानी पक्षियों की झलक भी आपको देखने को मिल सकती है। यहां सूरज की पहली किरण  देखते हुए दिन की शुरुआत करना मन को रोमांचित कर देता है। हमारे गाइड ने हमें बताया कि यहां का सूर्यास्त का अद्भुत नजारा एशिया के सात बीच में से एक है।सच में ढलते हुए सूरज के साथ दिन को खत्म करने का अनुभव मनोरम था।

अंडमान निकोबार  572  द्वीपों का समूह का है। इनमें से कुछ  द्वीप समुद्री गतिविधियों के लिए एकदम अनुकूल है। जहां आप स्कूबा ड्राइविंग, सी वाकिंग, ग्लास बोट राइड आदि रोमांचक जलीय क्रियाएं कर सकते हैं। सी वाकिंग मेरे जीवन का एक अद्भुत अनुभव रहा। मेरे पति ने मुझे स्कूबा ड्राइविंग करने से रोक दिया। ग्लास वोट राइटिंग के दौरान समुद्र की मछलियों को देखकर दिल रोमांचित हो रहा था। पोर्ट ब्लेयर से फियरी लेकर हैवलॉक आईलैंड गए। यहां हमने उपरोक्त जलीय क्रियाएं की। हैवलॉक उष्णकटिबंधीय वनों से गिरा  है, वृक्षों का प्रतिबिंब समुद्र की लहरों में लहराता हुआ दिखता है।

समुंद्र के तटों पर मैंग्रोव वनस्पति यत्र तत्र देखने को मिलती है सुंदर रुपहेली रेतीले समुद्र तट के किनारे कई रिसॉर्ट्स बने हैं हम भी उनमें से एक रिसॉर्ट में 2 दिन रूके। दूर-दूर तक लहराती हुई लहरों के देख मन में अपार शांति का अनुभव होता है। आप एक डेढ़ घंटे आराम से मेडिटेशन कर सकते हैं। जो आपको मानसिक शांति देता है। हमारी इस यात्रा से पहले अंडमान में एक नाव दुर्घटनाग्रस्त हो जाने के कारण कई टापू सेनानियों के लिए बंद कर दिए गए थे फिर भी हम कुछ टापू घूमे। फियरी, स्ट्रीमर  आदि का प्रयोग करके इन टापू में जाया जा सकता है अगर आपको सीसिकनेस है तो अपने साथ कुछ मेडिसन जरूर ले जाएं, समुद्र की यात्रा करते समय डूबते हुए सूरज को देख कर ऐसा लग रहा था मानो वह समुंद्र में समा जाएगा और सुबह समुंद्र से ही उठ जाएगा। यह दृश्य सच में मन को प्रफुल्लित करता है। अपने मन में आईलैंड की मनोहर यादें बांधकर हम वापस पोर्ट ब्लेयर आ गए अगले दिन सुबह फ्लाइट पकड़कर वापस अपने घर आ गए।

अगर मैं वहां के लोगों का जिक्र ना करो तो अंडमान के साथ बेईमानी होगी। अंडमान के लोग सीधे-साधे होते हैं, यहां मुख्यतः तेलुगू ,मलयालम, तमिल, बांग्ला भाषाओं के साथ हिंदी और अंग्रेजी अच्छे से बोली जाती है, यहां आपको हर रिजॉर्ट ,होटल में पुरुषों के साथ महिलाऐं भी काम करते हुए देखी जा सकती हैं, जनजातियों के विकास के लिए कई नीतियां बनाई गई है, जो उनके पुनर्वास में सहायक सिद्ध हो रही हैं।

अंडमान की यात्रा आज भी मेरे जेहन में सुरक्षित है वहां के दीपों में फैली शांति आपके दिलो-दिमाग में ताजगी पैदा कर देती है जीवन में अगर मुझे दोबारा अवसर मिला तो मैं अंडमान की यात्रा जरूर करूंगी। वहां पर की गई वाटर एक्टिविटीज, सेल्यूलर जेल, सदाबहार वनों से घिरे हुए टापू, कोरल टापू आदि आपके मन को रोमांचित कर देते हैं जिनकी छवि आप जिंदगी भर नहीं भुला सकते।।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0