बहू हमेशा गलत क्यों होती है: Blog Post By Vidhi Jain

बहू हमेशा गलत क्यों होती है: Blog Post By Vidhi Jain

कमरे में जाकर मोहनी के आंसू रूक नहीं रहे थेउसी समय नितिन कमरे में आकर मोहनी को चिल्लानाशुरू कर दिया।         नितिन मोहनी से कह रहा था,तुम भी छोटीछोटी बातों का राई का पहाङ बना देती हो,तुम इतनीपढ़ी लिखी होने के बावजूद तुम ऐसी हरकतें करती हो!         


मोहनी पढ़ी लिखी और समझदार बहू थी,जबसे शादी हुई कभी पलटकर जबाब नहीं देती थी।लेकिन जब सिर से पानी ऊपर चला जाता है,सहनशीलव्यक्ति भी हार मान लेता है।     


मोहनी की शादी दस साल होने के बावजूद भीघर में एक न चलती।सास के देहांत के बाद मोहिनी ससुर का बहुत ध्यान रखती थी लेकिन हमेशा नंदे यही ताना देती थी।कि पापा कितने दुबले हो रहे हैं उनका बीपी हमेशा ही रहता हैं।जबकि सुबह से मोहिनी एक गिलास दूध और ड्राई फूड साथ में देती थी।नौ साडे 9:00 बजे नाश्ता नाश्ता भी हैवी करते थे ।ससुर जी दोपहर में खाना शाम को चाय और बिस्किट और रात में डिनर अच्छे से करते थे।और उसके बाद भी हर दिन मोहिनी ध्यान रखती थीपापा जी को कोई कमी न हो।मायके तो कुछ घंटे के लिए जाती थी और वापस आ जाती थी ।वह कभी शादी में जाती तो ससुर को भी साथ लेकर जाती थी,मोहिनी ना कभी बाई का सहारा नहीं लिया।


काम खुद ही करती थी क्योंकि ससुर को बाई के हाथ का खाना पसंद नहीं आता था।इसलिए वह छोड़ कर भी नहीं जाती थी बच्चों का भी ध्यान रखना पति को समय से ऑफिस के लिए टिफिन नाश्ता सब कुछ अपने हाथ से ही करती थी।लेकिन फोन हो या व्हाट्सएप हो तो नंदे टान्ट जरूर करती रहती थी कि भाभी तो कुछ करती ही नहीं हैपापा की तबीयत भाभी के कारण ही खराब हो जाती है।भाभी ध्यान ही नहीं रख पाती है इस बार गर्मी की छुट्टियों में दोनों नंदे का आना हुआ ।मोहिनी से सोचा कि दीदी लोग आई हैं तो चाचा चाची ससुर को घर में निमंत्रण दे दें।उसी समय मोहिनी की छोटी बेटी का बर्थडे था इसी चक्कर में उसने सभी को निमंत्रण दे दिया।लेकिन पता नहीं था के बर्थडे की पार्टी इस तरह से जाएगी मोहिनी अपने काम में कुछ ज्यादा ही व्यस्त हो गई ।उसने पापा जी को सब कुछ कमरे में दे दिया और पापा जी से कहा कि अब सेलिब्रेशन का टाइम हो गया है तो आप भी आ जाइए व्यस्त ज्यादा थी।इसलिए थोड़ा खाने मैं लेट हो गया तभी बड़ी नंद कहने लगी पापा जी आपको क्या चक्कर आ रहे हैं पापा ने कहा हां बेटा आज मुझे थोड़ा सा ढीलापन लग रहा है मेरा बीपी हाई तो नहीं हो रहा है !!घर में जितने मेहमान आए थे सबका ध्यान ससुर के ऊपर चला गया सभी चिंतित हो गए बड़ी नंद बार-बार यही कहने लगे कि अरे!!


पापा को तो पहले देख लेती बाद में तुम बर्थडे मना लेती!! मोहिनी को बहुत गुस्सा आया उसने बोला कि नहीं दीदी मैंने तो पहली बार अपनी बिटिया का बर्थडे मनाया इतने सालों में !! कभी मैंने किसी को बुलाया ही नहीं है।मैं तो पापा का हमेशा ध्यान रखती हूँ बस इसी बात पर से दोनों की बहस शुरू हो गई उसकी चाची सास ने बहुत समझाया कि नहीं मैं तो थोड़ी दूर पर रहती हूँ जब भी आती हूँ।तो वही अपने काम में ही व्यस्त रहती है कभी मेरे घर भी नहीं आ पाती लेकिन बड़ी नंद नंदा बहुत तेज थी वह मानने तैयार ही नहीं थी ।कुछ देर में मोहिनी ने सहन किया और कमरे में रोती हुई चली गई लेकिन जैसे ही नितिन ने मोहिनी को सुनाया तो उसके बर्दाश्त से बाहर हो गया ।"कहने लगी जब मैंने कोई गलती नहीं की तो क्यों बर्दाश्त करूँ! और उसने नीचे जाकर बड़ी नंद नंदा से कह दिया कि दीदी यदि आपको ऐसा लगता है कि मैं नहीं संभाल पा रही पापा जी को तो आप उन्हें अपने घर ले जा सकती हैं ।नंदा को इस बात का बहुत बुरा लगा की मोहिनी ने उसको पलट कर जवाब दिया।और उसने तूल का पहाड़ बना दिया नितिन ने बहुत समझाया कि दीदी हम लोग पापा जी के कारण कभी घूमने फिरने कहीं भी नहीं जाते हैं।हम लोग जहां भी जाते हैं रिश्तेदारों की शादी में पापा जी को हमेशा साथ ले जाते हैं आप गलत समझ रही हो गलत सोच रही हैं।आज पहली बार ऐसा हुआ कि डिनर में थोड़ा सा लेट हो गया बल्कि मोहिनी ने कहा भी था कि पापा जी आप पहले खाना खा लीजिए तो पापा जी ने कहा- कि जब तक मेहमान खाना नहीं खा लेते हैं तो मैं कैसे खा लूंगा !आप पूछ लीजिए पापा जी से तुरंत ससुर ने कहा- हाँ!बेटा मोहिनी तो मेरा बहुत ध्यान रखती है तुम दोनों क्यों लड़ाई कर रही हो !मेरे लिए तो सारे बच्चे बराबर है मोहिनी ने मेरे से कमरे में आकर कहा था।कि पापा जी आप खाना खा लीजिए उसके बाद ही मेहमानों को तो लेकिन मैंने ही मना कर दिया था ।कि नहीं आज बहुत दिन बाद बच्चे की पार्टी है और मेहमान आ गए हैं।तो मैं थोड़ी देर रुक जाता हूँ मुझे नहीं पता था,मेराबीपी बढ़ जाऐगा।लेकिन आज मैं सबके सामने अपनी बहू की तारीफ कर रहा हूँ कि ये बहू मेरी बेटी जैसी है।मोहिनी ने मेरा बहुत ध्यान रखा सच कहूँ कि यदि यहनहीं होती तो मेरा जीवन नहीं होता।मेरी तो पत्नी चली गई लेकिन मोहिनी ने कभी पलट कर जवाब नहीं दिया मुझे।मेरा बहुत ध्यान रखती है,मेरी बहू मेरी बेटी जैसी है।कुछ देर बाद नंदा ने मोहनी से माफी मांगी औरकहने लगी मेरे से गलती हो गई।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0