बेटी से बहू तक का सफ़र

बेटी से बहू तक का सफ़र


आसां नहीं होता एक लड़की का बेटी से बहू तक का सफ़र,

अश्कों को आँखों में छिपाकर ससुराल में मुख पर मुस्कान बिखेरती हैं बेटियाँ |

हर तीज त्यौहार पर माँ बाप की राह तकती है बेटियाँ ||

चुनना पड़ता है जब भी मायके के लाड़ प्यार और ससुराल की जिम्मेदारी में से एक को,
दफन करके अपने जज़्बात दिल में सर्वप्रथम ससुराल को चुनती है बेटियाँ ||

हाँ सब कुशलमंगल है, मैं खुश हूँ ऐसे अनगिनत झूठ मायके वालों से बोलती हैं बेटियाँ |

किसी मायके के समारोह में सम्मिलित ना होने पर छिप छिपकर आँखे भिगोती है बेटियाँ ||

भरसक प्रयास करके अपने माता पिता के नाम और संस्कारों का मान रखने का अंतिम साँस तक अथक और निरंतर प्रयास करती है बेटियाँ ||

आसां नहीं होता एक लड़की का बेटी से बहू तक का सफ़र,
इतना सब करने पर भी ना जाने क्यूँ नहीं होती ससुराल वालों को उनकी कदर... ||
✍️# दिलसेदिलतक# पूजा अरोरा

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0