एक शाम

एक शाम

#एक शाम

यूँ तो बरसों से इक साथ रहते हैं,
पर लगता है अब कुछ फीका सा हो गया है||


बच्चों की परवरिश, घर की जिम्मेदारियों में,
कुछ अपना हमारा खो सा गया है||


चलो आज इक कॉफी की शाम मेरे नाम कर दो,
मिलो फिर उस पुरानी जगह पर,
कुछ लम्हात मेरे नाम कर दो ||


उस कॉफी के उठते धुएँ में, देखेंगे वो अधूरे ख्वाब फिर से ||

मिलकर करेंगे पूरे वो अधूरे से ख़्वाब ||


चलो आज फिर अपने मन की सुनो,
चलो आज फिर नए सपनों की माला बुनो||


आज करते है दोनों अपने मन की बात,
बैठ फुर्सत से करते हैं पुराने दिनों को याद||


आज जो है तुम्हारे दिल में कह दो,
कुछ आज तुम मेरे मन की भी सुन लो||


चुरा कर व्यस्त जिंदगी से दो पल आओ बैठ मिल,
आज कुछ अपनी कहो, कुछ मेरी सुनो||

बिखर गयी जो खुशियाँ, उन्हें समेट मेरी झोली भर दो,
चलो आज इक कॉफी की शाम
मेरे नाम कर दो ||
✍️#दिल से दिल तक # पूजा अरोरा

#कॉफी का प्याला 

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0