गर्मियों का साथी .. पुदीना

गर्मियों का साथी .. पुदीना

ये चिलचिलाती गर्मी और पसीने से तरबतर हालात ! जब हो तब लगता है कि कुछ तो ऐसा हो जो अंदर से शरीर को ताजगी व ठंडक प्रदान करें | ऐसे में पुदीने का प्रयोग बेहद लाभकारी होता है साथ ही यह औषधीय गुणों से भी भरपूर है | पुदीना अपने ठंडक के कारण खासतौर पर गर्मियों में ही ज्यादा मात्रा में प्रयोग किया जाता है जो अपने बेशकीमती गुणों के कारण अपनी एक खास पहचान रखता है | पुदीना विटामिन ए से भरपूर होता है | इसकी सुगंध मात्र से ही व्यक्ति अपने आपको अंदर से तरोताजा महसूस करने लगता है | गर्मियों में पुदीना शरीर के लिए अमृत तुल्य है जो पेट के विकारों को तो दूर करता ही है साथ ही अन्य बीमारियों को भी दूर करने में सहायक है | गर्मियों में पुदीना हर घर के गमले व रसोई गार्डन में देखने को आसानी से मिल जाता है और इसके पौधे को लगाने में ज्यादा मशक्कत भी नहीं करनी पड़ती |

गर्मियों में पुदीने का प्रयोग कितना लाभकारी है आज हम इस लेख में जानेंगे |                                               

1, पुदीना पत्तियों को पीसकर उसमें नींबू का रस 2-3 बूदें डालकर चेहरे पर लगायें करीब 20-25 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें इससे मुंहासों की समस्या से  निजात मिलती हैं |                                                           

2, गर्मियों में यदि हैजा की समस्या हो तब भी पुदीना, प्याज और नींबू का रस एक समान मात्रा में मिलाकर पीने से लाभ मिलता है यहां तक कि गर्मियों में पुदीने के रस की कुछ बूंदे पानी में डालकर पीने से शरीर को अंदर से ताजगी मिलती है |                                   

3, पेट दर्द की समस्या होने पर भी पुदीने व अदरक के रस में सेंधा नमक मिलाकर पीने से राहत मिलती है |       

4, टब में पानी भरकर उसमें कुछ बूंदें पुदीने का तेल डालकर अपने पैरों को रखें जिससे थकान दूर होगी | पुदीने का ताजा रस क्षय रोग , अस्थमा जैसे रोगों के लिए लाभकारी है यहां तक कि पुदीने की चाय में दो चुटकी नमक मिलाकर पीने से खांसी में फायदा मिलता है |         

5, सलाद में इसका प्रयोग भी स्वास्थ्यवर्धक होता है इसकी पत्तियों को रोजाना चबाने से दांतों का पायरिया रोग भी दूर होता है | यह एक एंटीसेप्टिक की तरह भी कार्य करता है | पुदीने के रस को गुनगुने पानी में मिलाकर कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंध दूर होती है |             

6, पुदीने का ताजा रस शहद के साथ सेवन करने से बुखार दूर हो जाता है तथा न्यूमोनिया से होने वाले विकार भी नष्ट हो जाते हैं व नकसीर के रोगियों के लिये भी पुदीना लाभकारी होता है |                                       

7, गर्मियों में पुदीने का नियमित सेवन पीलिया जैसे रोगों से भी बचाता है पुदीने के रस को , अदरक के रस और शहद के साथ मिलाकर सेवन करने से हिचकी से भी छुटकारा पाया जा सकता है |                                       

8, पुदीने की पत्तियों को पीसकर उसके लेप को पैरों के तलवों में लगाकर जलन से भी छुटकारा पाया जा सकता है |                                                                       

9, सूखा व गीले पुदीना की पत्तियों को दही व छाछ में मिलाकर पीने से पेट की समस्या जैसे जलन से भी निजात पाया जा सकता है व लू से बचाव किया जा सकता है |                                                                                       

पुदीने का प्रयोग दही,  छाछ , सलाद व पेय पदार्थ के रूप में भी कर सकते हैं यहां तक की पुदीने का प्रयोग करके आप पुदीने फ्लेवर का नमक भी बना सकती हैं वाह गर्मियों में हम पुदीने के पराठे भी बना सकते हैं जो जायकेदार व स्वादिष्ट होते ही हैं साथ ही फायदेमंद भी होते हैं |                                                                                                                   

धन्यवाद                                                               

रिंकी पांडेय

What's Your Reaction?

like
2
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0