गुरू नमन

गुरू नमन

कच्ची मिट्टी का ढेला था,
छोटा सा जीव नादान था।
क्या सही और क्या गलत,
इस सबसे अनजान था।।

प्रथम गुरु मेरे मात पिता हैं,
चरणों में उनके नमन करूं।।
ज्ञान दिया है मुझको इतना,
शब्दों में कैसे बयां करूं?

नमन मेरा सभी गुरुओं को,
वंदन बारंबार है।
अज्ञानता के अन्धकार को मिटा,
फैलाया जीवन में प्रकाश है। 

धन्यवाद उन मित्रों का भी,
जो हरदम मुझको ज्ञान हैं देते।
खेल खेल में सहज भाव से,
मुझमें नई ऊर्जा भर देते।।

शिक्षक दिवस के अवसर पर,
सभी गुरुओं को नमन है।
हाथ जोड़कर दिल से धन्यवाद,
जिन्होंने कर दिया जीवन चमन है।।

नीता तायल

कासगंज, उत्तर प्रदेश

"मौलिक और अप्रकाशित"

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0