हाथ से बुने स्वेटर- कुछ तेरी मेरी यादें सर्दियों की #सर्दियोंकी गर्माहट

हाथ से बुने स्वेटर- कुछ तेरी मेरी यादें सर्दियों की #सर्दियोंकी गर्माहट

सर्दियां आते ही सभी गृहणियों की एक ही चिंता रहती है कि उनके घर में सब स्वस्थ रहें, किसी को सर्दी अपनी गिरफ्त में ना ले ले। इसके लिए खाने से लेकर कपड़ों तक शरीर को गर्म रखने की सारी व्यवस्था कर डालती हैं। खाने में तरह-तरह के लड्डू, पकवान, तिल के, गोंद के, मेवे के लड्डू, मेथी पाक, चिक्की तैयार करती हैंऔर पहनने के लिए नानी, दादी और मां के हाथ से बने स्वेटर।


मेरी बचपन की यादों में जब भी सर्दी के मौसम का जिक्र होता है, तो याद आता है औरतों का वो झुरमुट, जो आंगन में बैठकर गुनगुनी धूप का मजा लेते हुए, एक दूसरे से स्वेटर के डिजाइन पर चर्चा करता था। सभी के हाथों में ऊन सिलाई होती थी। हम सब बच्चे पास ही खेलते रहते थे, जिस बच्चे ने भी सुंदर स्वेटर पहना होता महिलाएं उसको पास बुला कर उसके स्वेटर के डिजाइन पर चर्चा करती थी, बड़ी ही सेलिब्रिटी वाली फीलिंग आती थी उस बच्चे को। पता नहीं, पर जो बात उन हाथ के बुने स्वेटर में होती थी, वो आजकल के विंडशीटर और इनर में कहां। हाथ से बने स्वेटर के एक एक धागे में बनाने वाले का प्यार छुपा होता था।


जिसके लिए स्वेटर बनाना होता था उसके पसंद के रंग की ऊन लेकर आना, फिर डिजाइन पसंद करना, अपने हाथों से बालिश्त और अंगुल से स्वेटर की लंबाई चौड़ाई नापना, बनाने वाला अपना पूरा हुनर स्वेटर तैयार करने में लगा देता था और जिसके लिए स्वेटर बन रहा होता उसे बेसब्री से इंतजार रहता कि कब वह बनकर तैयार हो और वो उसे पहने। यह बातें कहीं ना कहीं रिश्तों को और प्यारा बना देती थी। जब भी कोई औरत मां बनने का सौभाग्य प्राप्त करती थी तो वह अपने होने वाले बच्चे के लिए स्वेटर जरूर बनाती थी, स्वेटर बनाने के बहाने वह होने वाले बच्चे की कल्पना से अपने ममत्व को नए आयाम देती थी।    


आजकल रेडीमेड स्वेटर का फैशन है इसलिए स्वेटर में सब गर्माहट ढूंढते फिरते हैं क्योंकि कहीं ना कहीं उन स्वेटरों में वह प्यार की गर्माहट नहीं होती, उन रेडीमेड स्वेटर में वह अपनापन भी नहीं होता। आजकल के रिश्ते भी तो रेडीमेड स्वेटर की तरह ही हो गए हैं, सिर्फ ऊपर से सुंदर और दिखावटी ,दिल को छूने वाली भावनाओं की गर्माहट नदारद है।


काश फिर से लौट आए उन हाथों से बुने स्वेटर का फैशन ताकि उस स्वेटर के रूप में किसी की भावनाओं और प्यार का स्पर्श पहन कर उसके करीब होने का एहसास हमेशा साथ रहे, ताकि हर रिश्ता प्यार की गर्मी से गर्माहट पाता रहे कभी भी अकेले होने का एहसास ना हो। किसी की प्यार भरी याद को लपेटे हुए इन सर्द हवाओं में बेफिक्र घूम सकें, चलिए फिर से चलाएं फैशन हाथ से बुने स्वेटरों का।


#सर्दियोंकीगर्माहट

What's Your Reaction?

like
8
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1