इबादत का महीना रमजान : कुछ खास बातें

इबादत का महीना रमजान : कुछ खास बातें

रमजान के महीने को इबादत का महीना कहा जाता है। हर साल दुनिया भर के मुसलमान रमजान के इस पवित्र त्योहार को मनाते हैं। रमजान जो पुरे महीने चलता है इसमें प्रार्थना और रोजे रख कर अल्लाह की इबादत की जाती है। 

रमजान के बाद ईद का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।


इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, रमजान का महीना पूरे एक माह का होता है. भारत में रमजान 2022 (Ramadan 2022 Date) 2 अप्रैल 2022 शनिवार से शुरू हो रहे हैं. अगर शनिवार को चांद दिख जाता है, तो रविवार यानी 3 अप्रैल को पहला रोजा होगा।


आईये जानते है रमजान के महीने की खास बातें..

*इस्लामिक हिजरी कैलेंडर के अनुसार रमज़ान साल का नौंवा महीना होता है।


* मान्यता है कि रमजान के महीने में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं और जो रोजे रखता हैं उसे ही जन्नत नसीब होती है।


*यह महीना प्रेम और अपने ऊपर संयम रखने का माना जाता है इसलिए कहा गया है कि हर मुसलमान को रोजा जरूर रखना चाहिए।


* बूढ़े, बच्चे, गर्भवती महिलाएं. नवजात की मांओं और सफर करने वाले यात्रियों को रोजा ना रखने की मनाही है।


*रमजान के दौरान हर मुस्लिम को जकात देना होता है। जकात का मतलब अल्लाह की राह में अपनी आमदनी से कुछ पैसे निकालकर जरूरतमंदों को देना है ।


*इस दौरान केवल अल्लाह की इबादत करनी चाहिए और सहरी और इफ्तार का खास ख्याल रखना चाहिए।


*इस दौरान शराब, सिगरेट, तंबाकू और नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।


What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0