जीवन के अनमोल पल- Blog Post By Aruna Dora

जीवन के अनमोल पल- Blog Post By Aruna Dora

जल्दी उठो .....आदि.....फिर बस छूट जाएगी.....अदिति ने अपने बेटे को जगाते कहा। सिर्फ 5 मिनट और मम्मी..... कह फिर सो गया। यह हमेशा का ही नाटक रहता। रात भर सोया, पर 5 मिनट और सोने का लोभ नहीं छोड़ सकता। फिर स्कूल समय पर पहुंचने के लिए जो भाग दौड़ होती सो अलग ।


मम्मी कितनी सुंदर ....चिड़िया ...जल्दी आओ ना....नन्ही बिटिया ने आवाज लगाई ।

चिड़िया तो उड़ गई। आप हमेशा देर कर देते हो ।जो सुंदर चिड़िया नन्ही अपनी मां को दिखाना चाहती थी नहीं दिखा पाई ।बस सिर्फ 1 मिनट के चक्कर में ।1 मिनट के चक्कर में तो प्लेन और ट्रेन अभी छूट जाया करती है ।


आप चले जाओ जी ....मुझे काम है कहने वाली पत्नियां बाद में इस बात का रोना रोते हैं मुझे पति कहीं घुमाने नहीं ले जाते। भई ,नीव भी तो पत्नी ने ही डाली ।पति को अपने यार दोस्तों के साथ घूमने में ज्यादा मजा आने लगा।

इस काम को पहले निपटा लेती हूं फिर बैठ कर आराम से फोन करती हूं पर वह मौका फिर नहीं आता।


पति का भी रोमांस का मूड पत्नी के 1 मिनट... अभी आई, काम निपटा कर आती हूं..... के चक्कर ,में इंतजार करते-करते खत्म हो जाती है।

हम 1 मिनट, 5 मिनट, हो गया... बस अभी आई ...आदि के चक्कर में कभी-कभी जीवन के अनमोल पल को खो देते हैं ।अपने काम को ही प्राथमिकता देने के चक्कर में समय की कद्र करना भूल जाते हैं। हम समय की कद्र ना करे तो, समय भी हमारी कद्र नहीं करती और रेत की तरह ही हमारी हाथ से फिसलती जाती है।

जीवन की खुशियां छोटे-छोटे अनमोल पल में भी निहित होती है। उनका भी भरपूर आनंद उठाएं। जीवन का क्या भरोसा ?आज हम जिसे समय ना दे पाए हो सकता है कल वह इस दुनिया को अलविदा कह जाए।


#पिंक एक्सपर्ट

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0