कौन हैं पुतिन के विरोध में टॉपलेस हुईं महिलाएं?क्या लिखवाया इन्होनें अपनी चेस्ट पर?

कौन हैं पुतिन के विरोध में टॉपलेस हुईं महिलाएं?क्या लिखवाया इन्होनें अपनी चेस्ट पर?

24 फरवरी से यूक्रेन पर लगातार हमले कर रहा है। हमले में दोनों तरफ के सैनिक मारे जा रहे हैं, साथ ही यूक्रेन के नागरिक भी मारे जा रहे हैं। इन हमलों के कारण पूरी दुनिया में रूस की आलोचना हो रही है। युद्ध के जवाब में अमेरिका और यूरोप के कई देशों ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध भी लगाए हैं।


रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का अलग-अलग ढंग से विरोध हो रहा है। 

 स्पेन के मैड्रिड शहर में एक फेमिनिस्ट ग्रुप ने टॉपलेस होकर पुतिन से युद्ध रोकने की मांग की। इस फेमिनिस्ट ग्रुप का नाम फीमेन है और उसने मैड्रिड में रूसी दूतावास के सामने यूक्रेन पर हमले का विरोध किया।

फीमेन (Femen) नाम की फेमिनिस्ट समूह से जुड़ी इन महिलाओं ने स्पेन के मैड्रिड में रूसी दूतावास के बाहर प्रदर्शन किया।

महिलाओं ने अपनी खुली छाती पर 'पुतिन का युद्ध बंद करो', 'यूक्रेन के लिए शांति' जैसे वाक्य लिख रखे थे. शरीर पर बॉडी पेंटिंग के साथ-साथ प्रदर्शनकारियों ने हाथों में फूलों के गुलदस्ते भी ले रखे थे. उनके बालों में भी फूल लगे थे।

फेमिनिस्ट समूह फीमेन की स्थापना 2008 में यूक्रेन में ही हुई थी. हालांकि, अब यह समूह फ्रांस से काम कर रहा है. रूस की ओर से यूक्रेन को धमकाए जाने की वजह से फीमेन पहले से ही रूस और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की कड़ी आलोचना करता रहा है. फीमेन का स्लोगन है- 'मेरा शरीर, मेरा हथियार है.' फीमेन सेक्स्ट्रीमिज्म, एथिज्म और फेमिनिज्म की बात करता है।

 फीमेन का कहना है कि हमारी भगवान औरत है. हमारा मिशन प्रदर्शन है और हमारा हथियार खुली छाती है।

फीमेन नाम का फेमिनिस्ट ग्रुप अतीत में अपने विरोध प्रदर्शनों के लिए जाना जाता रहा है। समूह का दावा है कि उनका लक्ष्य महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना है। समूह आक्रामक अभियानों और डिजिटल मीडिया के सहायता से अधिक से अधिक लोगों तक अपनी बात पहुंचने का प्रयास करता है।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0