किस्सा अप्रैल फूल का

किस्सा अप्रैल फूल का

अनीश कुमार बैंक में कार्यरत है, इस बार काम भी खूब मेहनत से अच्छा किया तो प्रोमोशन मिली, सैलरी एकदम से डेढ़ गुणा बढ़ गई, सब बहुत खुश हुए, अनीश की पत्नी राधा, " मां आपके दामाद की प्रमोशन हुई है, अब अनीश बैंक मैनेजर बन गए हैं"

"बहुत बहुत बधाई हो बिटिया , खुश रहो, लो तुम्हारी बहन तुम्हें बधाई देना चाह रही है"

" हार्दिक बधाई दीदी, हमें तो फाइव स्टार होटल में पार्टी चाहिए"

" ये काम तो तेरे जीजाजी का है, नोट मिलेंगे भी उन्हें और खर्च करेंगे भी वही हा, हा, हा"

" ठीक है मैं जीजाजी से ही बात करती हूं" 

30 मार्च की रात अनीश की साली यानि आस्था अनीश को फोन लगाती है," जीजाजी आपका प्रमोशन हुआ है पार्टी तो बनती है , हमें तो फाइव स्टार होटल में पार्टी चाहिए"

अनीश को भी शरारत सूझी बोले," बिल्कुल साली साहिबा पार्टी तो बनती है, लेकिन कल मैं थोड़ा व्यस्त हूं, ऐसा करते हैं परसों आप ताज होटल ठीक चार बजे पहुंच जाना, हम सब भी वहीं आ जाएंगे, आप चाहो तो अपनी दो- चार सहेलियां भी ले आना"

आस्था ने भी अपनी चार-पांच सहेलियों को तैयार कर लिया, साथ जाने के लिए।

पहली तारीख शाम 4 बजे आस्था पहुंच गई अपनी सहेलियों के साथ ताज होटल, और लगी इंतजार करने 5 बज गए मगर ना जीजाजी आए ना ही उनकी फैमिली, फोन किया तो जीजाजी बोले," थोड़ी देर में पहुंचते हैं, आप सब आर्डर करो खाओ - पियो आराम से"

आस्था ने काफी कुछ आर्डर किया, सब सहेलियां अपनी-अपनी पसंद बताकर चटखारे लेकर खा रही थी 7 बज गए मगर अभी तक कोई नहीं आया तो आस्था का मन खटका फिर से फोन किया तो जीजाजी बोले, " अचानक कोई काम आ गया, हम तो आ नहीं पाएंगे, अभी बाहर ही हैं, घर पहुंचते ही लेट हो जाएंगे, आप सब पार्टी करो, पार्टी आप ने की या हमने की एक ही बात है" 

अब साली साहिबा भी सेर पे सवा सेर बोली, " कोई बात नहीं जीजाजी आप चिंता ना करें हम पार्टी एंज्वॉय कर रहे हैं, आप लेट हो जाएंगे तो थक जाएंगे, फिर दीदी को खाना बनाना पड़ेगा, बेचारी थक जाएगी, आप ऐसा करें मेनेजर को अपना पता लिखवा दे, आप सबका खाना घर पहुंच जाएगा" और आस्था फोन को स्पीकर पर डाल कर मेनेजर से बात कराती है, एड्रेस लिखवा कर, " ठीक है जीजाजी 8 बजे मेनेजर साहब वेटर को आप के घर भेज देंगे, आप इत्मिनान से घर जाइए" और फोन कट कर देती है। 

इधर जीजाजी भी खुश कि ना तो पार्टी देनी पड़ी,उपर से खुद के लिए भी खाना फ्री में आ जाएगा।

8 बजे बेल बजी जीजाजी ने झट से दरवाजा खोला, वेटर ने खाने के साथ 25000 का बिल हाथ में रख दिया, जीजाजी की सिट्टी-पिट्टी गुम। साली के साथ मज़ाक बहुत मंहगा पड़ा।

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
1
angry
0
sad
0
wow
0