मेरी रसोई से कुछ स्पेशल सर्दियों के: Blog Post By Sangita Tripathi

मेरी रसोई से कुछ स्पेशल सर्दियों के: Blog Post By Sangita Tripathi

 यूँ तो सर्दी का मौसम होता ही है, खाने -पीने वाला। ऊपर से सब्जियाँ भी खूब मिलती है। मटर, साग, सब कुछ भरपूर मात्रा में मिलती है।हम ग्रहणी का काम तो बढ़ जाता, पर जो सब्जियां बच्चों को नहीं खिला पाते, उसको भी नये रूप दे कर बच्चों को खिलाया जा सकता है। मेरी रसोई सर्दियों में ढेरों अविष्कार के लिये तैयार रहती है। कभी भरवाँ पराठे, कभी कोफ्ते, कभी हलवा, तो कभी सब्जियों के कटलेट या पुलाव बना,सब्जियां सबको खिलाने में सफल रहती हूँ,


 1- सर्दियों में दही..न.. न..., बहुत लोग सर्दियों में दही नहीं खाते, ठंडा तासीर होता है, इसलिये, पर पुलाव या बिरयानी बगैर रायता के अच्छे ही नहीं लगते, तो क्यों न हम दही में कुछ गर्म तासीर वाली चीजें डाल उन्हे, खाने योग बना लें, बथुआ -हरा साग, अपने में गुणों की खान है, इसकी तासीर गर्म है।हमारी रसोई में अक्सर बथुआ का रायता बनता है।


बथुआ की पत्ती तोड़ कर, साफ पानी में धो लें, फिर एक भगोने में थोड़े पानी के साथ उबाल लें, ठंडा होने पर मिक्सी में पीस लें, दही फेंट कर उसमें,पिसा बथुआ डाले और मिक्स करें, नमक, बारीक़ कटी हरी मिर्च डाले, ऊपर से देशी घी में, जीरा,राई और हींग का बघार दें, सच इस रायते को एक बार खाने के बाद हमेशा खाना चाहेंगे। ये ठंडियों में गर्म तासीर रखने वाली है..।


चाहे तो बथुआ पीस कर, या छोटे टुकड़े में काट कर, आटे में नमक, अजवाइन के साथ मिक्स कर पराठे बना सकते है।


2- कोफ्ते -जी हाँ, कभी गोभी तो कभी मटर, कभी मूली के कोफ्ते जरूर बनती है मेरी रसोई में,


मूली के कोफ्ते -मूली कद्दूकस, करके, एक पैन में एक चम्मच रिफाइंड डाले, हींग, जीरा का तड़का लगाये, थोड़ा राई और, हरीमिर्च भी काट कर डाले, कद्दूकस किये मूली को भून लें, पानी सूखने के बाद दो चम्मच चावल का आता डाले, थोड़ी देर और भुने, फिर आंच से उतार कर ठंडा करें, अब दो बड़े चम्मच बेसन डालें, साथ ही, हल्दी, लाल मिर्च, पिसा धनिया, जीरा पाउडर, गर्म मसाला डाल कर, मिला लें, पहले एक गोली बना कर तल लें, अगर फट नहीं रहा तो सारी गोलियां बना तल लें अगर फट रहा, तो थोड़ा बेसन और मिलाये,


 मनपसंद ग्रेवी बना, कोफ्तो को डाल दे, स्वादिष्ट कोफ्ते तैयार है, गर्म चावलों के साथ खाये,


सखियों, ये दो रेसिपी तो मेरी रसोई की सर्दियों की स्पेशल व्यंजन है, आप ट्रॉय जरूर करियेगा..।सर्दियों में गर्म मसालें का भरपूर उपयोग करें, ये आपको ठण्ड से बचाती है।


एक स्पेशल और है, मेरी रसोई की, वो है गुड़, सर्दियों में हम लोग, चीनी के बजाय गुड़ का ज्यादा उपयोग करते है, चाय या कॉफी में गुड़, चाय या कॉफी बनने के बाद कप में डाले, नहीं तो दूध फट जाता है। कॉफी में गुड़ आपको चॉकलेट का फ्लेवर देता है। 

                     

संगीता त्रिपाठी 


#meri rasoi 

#सर्दियों की गर्माहट 


          




What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0