#my mummy strongest#मेरी मां

माँ इस एक शब्द में पूरी दुनिया समायी है। इस एक शब्द में असंख्य, अपार, अकल्पनीय, अप्रत्यक्ष उमड़ते अहम भाव छि‍पे हैं, जिन्हें बस महसूस किया जा सकता है।


ममता और वात्सल्य की मूरत है तो ...समस्त संसार और कठिनाइयों से लड़ने का माद्दा भी रखती है..अगर बात उसके परिवार और बच्चों पर आए...


कम उम्र में ही जब मैने अपने पिता को खोया तो..मां ने भी कम उम्र में पति को खो दिया था... पर उन्होंने हिम्मत नहीं खोई और घर बाहर ..दोनो जिम्मेदारी को बखूबी निभाया...किसी से मदद की उम्मीद क्या रखती... उस कठिन समय में तो अपनों ने भी साथ नहीं दिया...ऊपर से वो ना तो उच्च शिक्षित थीं और ना ही व्यवहारिक अनुभव था.. जो भी नौकरी मिली उसे किया..साथ ही अपने को उच्च शिक्षित भी किया..ताकि भविष्य में तरक्की के अच्छे अवसर मिल सकें..


हम भाई बहनों को भी उच्च शिक्षा दिलाई और समाज की परवाह न करते हुए हमें बाहर पढ़ने के लिए भेजा ... हॉस्टल में रहने दिया...सब ने बोला लड़की बिगड़ जाएगी ..इतनी छूट देना सही नही..शादी कर के निवृत हो..पर उन्होंने शिक्षा के महत्व को समझा था..इसलिए उन्होंने किसी की नहीं सुनी...आत्म निर्भरता का पहला पाठ हम बच्चों को उन्होंने ही पढ़ाया..कम संसाधनों में भी खुश रहना सिखाया और हमेशा दूसरों की मदद का जज्बा रखना भी..


आज सेवा निवृत्ति के बाद भी ..वो पूर्ण रूप से स्वस्थ और सक्रिय जीवन जी रही हैं..सामाजिक और आर्थिक रूप से आत्म निर्भर तो हैं ही..खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से सुदृढ़ रखती हैं...नियमित योग और बागवानी करके ..खुद को व्यस्त रखती हैं..


हम सब अगर किसी परेशानी में होते हैं तो वो हमारी सलाहकार बन जाती हैं.. हमारे बच्चों की तो फेवरेट हैं ही...उनकी कहानियों के तो वो दीवाने हैं और उनके आज्ञाकारी भी...और सबसे ज्यादा उनसे डरते भी हैं...ता उम्र भले ही उन्होंने कितनी भी परेशानी झेली हो..पर हम बच्चों पर कभी जाहिर नहीं किया... इस वैश्विक महामारी में भी...अपनी सकारात्मक सोच के जरिए...हम सबको हौसला देती हैं..इसीलिए मैं कहती हूं ..My Mummy strongest...

नीलम राज

What's Your Reaction?

like
8
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0