# नोंक- झोंक/ Thursday Poetry Challenge

# नोंक- झोंक/ Thursday Poetry Challenge

  वो तेरी काॅफी का प्याला,                                              और तेरा मेरे को देखकर सकुचाना,                                दिल में रहती हो तुम याद बनकर,                                   लेकिन बोल नहीं पाते लब,                                          जब देखूँ मैं तुम्हें तब - तब,                                             काश तुम मेरे पास ही होती,                                          तो तुम्हें बताता कि कितना अधूरा था,                              तुम्हारे बिना मैं,                                                             जबसे तुम्हारी मुझसे नोंक - झोंक हुई,                             जैसे की मेरी सारी दुनिया ही खत्म हुई,                           दोस्त भी चिढ़ाने लग गए मुझे,                                        कि क्या हाल कर लिया है,                                            उसने अपनी प्रेयसी के लिए,                                          और कहते फिरते हैं मुझे,                                              कि देखो मजनू आ रहा है,                                           अपनी प्रेयसी के गम में आंसू बहा रहा है,                         लेकिन किसी ने ना जाना हाल मेरा,                                कि मैं तुम बिन अधूरा हूँ हरपल यहाँ,                              अब तो ये नोंक- झोंक तुम बन्द करो,                              और दस्तक दे भी दो मेरे गलियारे में,                              जो ढ़ूंढा करते हैं तुम्हें हर जगह,                                      कि काश तुम होती तो ये होता,                                       कि काश ऐसा होता, कि काश कुछ वैसा होता| 

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0