नीम एक फायदे अनेक: Blog post by Archana Saxena

नीम एक फायदे अनेक: Blog post by Archana Saxena

हमारे देश में नीम के पेड़ जगह जगह मिल जाते हैं और ये हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं इस बात से भी कोई इनकार नहीं कर सकता है। नीम के पेड़ ऑक्सीजन का एक बड़ा स्त्रोत हैं। ये वातावरण के प्रदूषण को कम करके वायु को शुद्ध बनाते हैं। नीम के पत्तों में औषधीय गुण बहुत अधिक मात्रा में हैं। इन्हें कीटनाशक की तरह भी प्रयोग किया जाता है और अनाज स्टोर करते समय प्रयोग किया जाता रहा है।

बहुत सी बीमारियों में भी संक्रमण से बचाव के लिए इनका प्रयोग होता है।


इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य व सौन्दर्य से जुड़ी अनेक समस्याओं में नीम की भूमिका उल्लेखनीय है।


दाँतों के लिए-

हमारे देश में नीम की पतली टहनियों को दातुन के रूप में प्रयोग करने की बड़ी पुरानी परम्परा रही है। जब टूथब्रश जैसी कोई चीज बनी भी नहीं थी उस समय से इसकी डंडियों का सिरा मुँह में चबाकर ब्रश की तरह प्रयोग किया जाता है। यह मुख को कीटाणुमुक्त रखती हैं। दाँतो की बीमारी जैसे पायरिया आदि से बचाव रखती हैं। मुख में यदि दुर्गंध आने की समस्या हो तो छुटकारा दिलाती हैं। दाँतों की पूरी तरह सफाई करके उनमें चमक लाने में सक्षम हैं।


कील मुँहासे-

नीम की ताजा पिसी पत्तियों को चेहरे पर लगाने से कील मुँहासों जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। त्वचा की गंदगी को दूर करके उसे कोमल बनाती हैं। चेहरे के अतिरिक्त तेल को हटाकर तैलीय त्वचा के रोमछिद्रों पर जमा गंदगी से छुटकारा दिलाती हैं।


ताजी नीम की पत्तियों को पीस कर शहद, मुल्तानी मिट्टी, ऐलोवेरा आदि में मिला कर चेहरे पर लगाया जा सकता है या उन्हें सुखाकर घर में पाउडर भी बनाया जा सकता है।


चर्मरोगों में-

त्वचा की बहुत सी बीमारियों को दूर करने में भी नीम की पत्तियाँ कारगर रहती हैं। बाजार में उपलब्ध नीम का तेल भी चर्मरोगों से बचाव करता है।


मच्छरों से छुटकारा-

नीम के तेल का दिया जलाने से मच्छर भाग जाते हैं और इस तरह डेंगू मलेरिया आदि बीमारियों से बचाव होता है।


फोड़े फुन्सियाँ-

नीम के तेल में थोड़ा सा कपूर मिला कर रखलें और फोड़े फुंसियों पर लगाएँ। आराम मिलेगा।


अर्चना सक्सेना

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0