नॉनस्टिक बर्तन का इस्तेमाल करते समय रखें इन बातों का ख्याल

नॉनस्टिक बर्तन का इस्तेमाल करते समय रखें इन बातों का ख्याल

नॉनस्टिक बर्तन जिसमें खाना न ही जलने की झंझट न ही चिपकने की और तो और नॉनस्टिक बर्तनों की साफ-सफाई भी आसान होती है इन्हें साफ करने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं लगती सबसे अच्छी बात कि नॉन स्टिक बर्तनों में खाना पकने में ज्यादा तेल की भी आवश्यकता नहीं होती | नॉनस्टिक बर्तन चिकना होता है जिसमें खाना बनाना भी आसान होता है | नॉनस्टिक बर्तनों में केमिकल कोटिंग लगी रहती है जरा सी लापरवाही से यह कोटिंग खराब हो सकती है नॉनस्टिक बर्तनों का इस्तेमाल करते समय इन बातों का ख्याल रखा जाए तो यह बर्तन खराब नहीं होंगे और सालों साल इनकी कोटिंग भी सही सलामत रहेगी |                                   

1, नॉनस्टिक बर्तनों की साफ-सफाई सही तरीके से ना की जाए तो यह जल्दी खराब हो जाते हैं इन्हें साफ करने के लिए ज्यादा देर तक सिंक पर ना रखें इन बर्तनों को साफ करके तुरंत एक तरफ रख दें |                           

2, नॉनस्टिक पैन और तवा की सफाई हल्के साबुन और डिटर्जेंट से करें इसमें नायलॉन और स्टील के scotch-brite का प्रयोग कतई ना करें | बेहतर होगा कि इन्हें स्पंज पैड से साफ करें |                                             

3, बर्तनों की साफ-सफाई के बाद इन्हें कपड़े से पोंछकर रख दें |                                                                 

4, नॉनस्टिक बर्तनों का जब भी आप इस्तेमाल कर रही हो तो स्टील की कलछी उपयोग में ना लाएं क्योंकि स्टील या अन्य धातुओं के कलछी के प्रयोग से बर्तनों की टेफ्लॉन कोटिंग को नुकसान हो सकता है |                 

5, नॉनस्टिक बर्तनों में खाना पकाने से पहले उसे घर में ना करें बस ज्यादा तेज आंच पर भी नॉनस्टिक बर्तनों में खाना ना बनाएं यदि उन बर्तनों पर खाना चिपक भी गया है तो उसे चाकू या कलछी से ना हटाए नहीं तो टेफ्लॉन कोटिंग खराब हो सकती है |                                     

6, नॉनस्टिक बर्तनों को ज्यादा देर तक पानी में ना रखें |

7, टेफ्लॉन एक सेफ कंपाउंड है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है लेकिन 300 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर नॉनस्टिक बर्तन पर की हुई टेफ्लॉन कोटिंग टूटने लगती है अत: खाना बनाने से पहले इन्हें गर्म न करें |                                                                           

8, खाना पकाने से पूर्व नॉन स्टिक बर्तनों पर हल्का पानी छिड़क दें बाकी जलने पर टैफ्लॉन कोटिंग टूटकर खतरनाक फ्यूम न बनें |                                               

9, यदि नॉनस्टिक बर्तनों की टेफ्लॉन कोटिंग टूटकर निकलने लगे तब उन बर्तनों को बदलना ही बेहतर होगा क्योंकि टूटी हुई टेफ्लॉन कोटिंग हमारे खाने में मिल सकती हैं जो हमारी सेहत के लिये नुकसानदायक हो सकता है |                                                                             

आजकल बाजारों में नॉनस्टिक बर्तन एक से बढ़कर एक डिजाइन में उपलब्ध है जिसका उपयोग रोजमर्रा में होने लगा है, बस जरूरत है तो थोड़ा सा ध्यान देने की ! इन्हें कैसे प्रयोग में लाया जाए व इनकी देखरेख कैसे की जाए ? उचित देखरेख से नॉनस्टिक बर्तन ज्यादा से ज्यादा समय तक चलते हैं वह खराब नहीं होते |                                                                                   

धन्यवाद                                                               

रिंकी पांडेय

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0