ऑस्कर अवार्ड से जुड़े कुछ रोचक तथ्य!

ऑस्कर अवार्ड से जुड़े कुछ रोचक तथ्य!

भारत की डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'राइटिंग विद फायर'  ने 94वें ऑस्कर पुरस्कारों की अंतिम नामांकन सूची में जगह बनाई है।
 भारत ने सर्वश्रेष्ठ डॉक्यूमेंट्री फीचर श्रेणी (Best Documentary Feature Category) में 'राइटिंग विद फायर' के जरिए नामांकन पाया है।

ट्रेसी एलिस रॉस और लेसली जॉर्डन ने मंगलवार शाम को 'एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज' के ट्विटर अकाउंट पर नामांकन की घोषणा की।

 रिंटू थॉमस और सुष्मित घोष द्वारा निर्देशित 'राइटिंग विद फायर' में 'खबर लहरिया' के उत्थान की कहानी बयान की गई है, जो दलित महिलाओं द्वारा निकाला जा रहा भारत का एकमात्र अखबार है।

जैसा कि आप सभी जानते हैं हॉलीवुड के प्रमुख पुरस्कारों में से एक हैं ऑस्कर अवॉर्ड, लेकिन इस अवॉर्ड से जुड़ी कई ऐसी रोचक बातें हैं जिसके बारे में शायद आपको जानकारी न हो. आइए जानते हैं ऑस्कर से जुड़ी ऐसी ही  दिलचस्प बातों के बारे में -

*हॉलीवुड एक्ट्रेस जी. पालट्रो ने ऑस्कर अवॉर्ड हासिल करने के बाद अपनी स्पीच में  करीब 23 से भी ज्यादा बार 'थैंक यू' शब्द का इस्तेमाल किया था. इसे ऑस्कर के इतिहास में रिकॉर्ड किया गया है।

*बॉब होप अभी तक के पहले ऐसे शख्स हैं, जो इस अवॉर्ड नाईट को 18 बात होस्ट कर चुके हैं. उनके बाद बिली क्रिस्टल का नाम शामिल है, जो इस अवॉर्ड नाईट को 8 बार होस्ट कर चुकी हैं।

*एक और रोचक बात यह है की वॉल्ट डिज़्नी को ऑस्कर के इतिहास में अभी तक 32 बार सम्मान मिल चूका है।

* ऑस्कर का असली नाम ‘अकादमी अवॉर्ड ऑफ मेरिट’ है। इस पुरस्कार का आयोजन सबसे पहली बार 16 मई साल 1929 में किया था।

*सेकेंड वर्ल्ड वॉर के दौरान मेटल की भारी कमी थी। जिस वजह से तीन सालों तक ऑस्कर की ट्रॉफी को प्लास्टर की मदद से बनाया गया और उसपर पेंट करके गोल्डन कलर चढ़ाया गया था।  केवल एक बार लकड़ी की ट्रॉफी को भी तैयार किया था, जिसे साल 1938 में अमेरिकी एक्टर Edgar Bergen को दिया गया था।

*ऑस्कर ट्रॉफी को विजेता किसी दूसरे इंसान को बेच नहीं सकता है। यह नियम साल 1950 में लागू किया गया था, जिसके पीछे का कारण एक एग्रीमेंट बताया जाता  है।  अवॉर्ड से पहले विजेता से साइन कराया जाता है कि वो अपनी ट्रॉफी को अगर बेचना चाहे भी तो केवल 1 डॉलर में अकादमी को ही बेच सकता है। अगर कोई भी सेलिब्रिटी ऐसा नहीं करता तो उसका ट्रॉफी पर कोई भी अधिकार नहीं होता है।

*भारत में अबतक सिर्फ पांच भारतीयों को ही ऑस्कर अवार्ड से मिला है. इसमें सिंगर और म्यूजिक कंपोजर एआर रहमान, गीतकार गुलजार और म्यूजिक मिक्सिंग करने वाले रेसुल पोक्कुट्टी को एक ही फिल्म के लिए अलग-अलग कैटगरी में अवार्ड मिला है।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0