पुरुषदिवस क्यों मनाया जाता है?

पुरुषदिवस क्यों मनाया जाता है?


19 नवम्बर को अन्तर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है। विश्व के कई देशों में यह और पहले से प्रचलन में आ गया था परन्तु भारत वर्ष में 2007 से पहले इसे नहीं मनाया जाता था, क्योंकि भारतवर्ष तो एक पुरुषप्रधान देश ही है और इससे पहले ऐसी कोई आवश्यकता अनुभव नहीं की गई होगी। परन्तु बहुत सी घटनाओं में हम देखते हैं कि पुरुष भी घरेलू हिंसा का शिकार होते हैं, उन्हें भी घरों में प्रताड़ित किया जाता है, यद्यपि महिलाओं की तुलना में पुरुष प्रताड़ना का प्रतिशत काफी कम है। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए भारत वर्ष में भी पुरुष दिवस मनाया जाने लगा।

इसे एक दिवस के रूप में मनाने का मकसद पुरुषों को स्वास्थ्य व लैंगिक समानता के लिए जागरूक करना है।


पुरुषों से जुड़ी कुछ प्रमुख समस्याएँ इस प्रकार हैं


* स्त्रियों की तुलना में पुरुष अधिक आत्महत्या करते हैं।

एक सर्वेक्षण के अनुसार ये प्रतिशत तीन गुना अधिक है।

* मोटापा ग्रस्त महिलाओं में चर्बी कमर के इर्दगिर्द व नितम्बों पर एकत्रित होती है जबकि पुरुषों में ये पेट पर अधिक एकत्रित होती है।

* स्त्रियों की तुलना में पुरुषों में दिल की बीमारी दोगुना अधिक होती है। हार्ट अटैक भी पुरुषों को अधिक आता है।

* महिलाएँ अधिक बोलने के लिए बदनाम अवश्य हैं परंतु पुरुष भी कुछ कम नहीं हैं। एक औसत पुरुष दिन भर में लगभग दो हजार शब्द बोलता है।

* महिलाओं के प्रति पुरुषों का आकर्षण किसी से छुपा नहीं है। एक सामान्य पुरुष अपने जीवन का लगभग एक वर्ष केवल महिलाओं को देखने में ही गुजार देता है।

* पुरुष अपनी भावनाओं को अधिक अच्छी तरह नियंत्रित कर लेते हैं परंतु ये भी बहुत संवेदनशील होते हैं।

* महिलाओं की अपेक्षा पुरुष अधिक बेघर होते हैं।


तो ये थीं पुरुषों से जुड़ी कुछ सामान्य बातें। वैसे तो किसी भी खास दिन किसी को महत्वपूर्ण अनुभव कराने से अधिक आवश्यक है कि परिवार के प्रत्येक सदस्य के स्वास्थ्य और उसकी भावनाओं को कभी भी नजर अंदाज न किया जाए और प्रतिदिन सभी सदस्य सभी का ध्यान रखें, परन्तु फिर भी जिस प्रकार दुनिया भर में महिला दिवस पर पुरुषों द्वारा अपने परिवार की महिलाओं को स्पेशल अनुभव कराने का प्रयास किया जाता है उसी प्रकार हम महिलाओं का भी ये कर्तव्य है कि परिवार के पुरुष सदस्यों को पुरुषदिवस पर ये अनुभव करवाएँ कि वह हमारे लिए कितने खास हैं।


अर्चना सक्सेना

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0